0
कश्मीर। टेरर फंडिंस के मामले में घाटी के अलगाववादी नेता यासिन मलिक को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसे ईडी की कार्रवाई के तहत गिफ्तार किया गया है। फिलहाल उसे श्रीनगर की सेंट्रल जेल भेजा गया है। यासीन मलिक अलगाववादी संगठन जेकेएलएफ का प्रमुख है।अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर और सईद अली शाह गिलानी पहले से ही नजरबंद हैं। तीनों नेता 9 सितंबर को एनआइए के सामने पेश होने वाले थे।
इससे पहले एनआइए ने आज हुर्रियत नेता सईद आगा हसन के घर छापेमारी की। बड़गाम स्थित उसके घर पर पुलिस सुबह ही पहुंच गई थी। टीम वहां दस्तावेजों की जांच कर रही है। आगा को मीरवाइज का करीबी बताया जाता है। इससे पहले आतंकियों को आर्थिक मदद पहुंचाने के मामले में एनआइए ने बुधवार को भी श्रीनगर में छह, दिल्ली में तीन और गुरुग्राम के कुछ जगहों पर छापेमारी की थी।
गौरतलब है कि इस साल जुलाई में एनआईए ने फारूक अहमद डार, नईम खान, शाहिद-अल-उस्मान, अल्तास फंटूस, मेहराजुद्दीन, अयाज अकबर और पीए सैफुल्ला को गिरफ्तार किया था। इसके बाद इन्हें जांच के लिए दिल्ली लाया गया था। एनआइए ने इस मामले में कई जानकारियां भी जुटाई थीं।
इन अलगाववादी नेताओं पर आरोप है कि वे खाड़ी देशों से फंड निकालते थे। इन पैसों का इस्तेमाल वे आतंक फैलाने और पत्थरबाजी की घटनाओं को आयोजित करने के लिए करते थे। गिरफ्तार नेताओं के संबंध हिजबुल मुजाहिद्दीन और लश्कर से रहे हैं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top