0

नई दिल्ली। सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय में चला सर्च आॅपरेशन तीन दिन बाद रविवार यानी 10 सितंबर को खत्म हो गया। इस दौरान डेरे में अवैध गर्भपात क्लिनिक होने का भी पता चला है। तलाशी अभियान के दौरान खुलासा हुआ है कि अस्पताल के नाम पर गुरमीत मानव अंगों का काला कारोबार भी चलाता था। इतना ही नहीं डेरे के अंदर ही स्किन ट्रांसप्लांट यूनिट भी मिली, जहां गैर कानूनी तरीके से स्किन ट्रांसप्लांट किया जाता था।
सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के गेट नंबर-7 से टीम ने तलाशी अभियान की शुरूआत की थी। सबसे पहले टीम बाबा के मीडिया मॉनिटरिंग रूम में दाखिल हुई। वहां से मिले लैपटॉप, कंप्यूटर हार्ड डिस्क और दूसरे उपकरण टीम ने सीज किए और दो रूम सील कर दिए गए। बलात्कारी बाबा राम रहीम की गुफा के अंदर दो सुरंग भी थीं। इसमें से एक सुरंग सीधे साध्वियों के कमरे में खुलती थी। तलाशी अभियान के दूसरे दिन गुफा में अचानक एक दरवाजा खुला और सामने एक सुरंग नजर आया। इस सुरंग की शुरूआत बाबा के कमरे से होती थी और साध्वियों का कमरा उस गुफा के आखिरी छोर पर था। आरोप है कि बलात्कारी बाबा गुफाओं के द्वार से साध्वियों के कमरों में जाकर अश्लील लीलाएं रचता था। जबकि दूसरी सुरंग 5 किलो मीटर तक जाती थी।दरअसल आॅपरेशन की शुरूआत होते ही पुलिस को डेरे से बड़ी मात्रा में करेंसी, लैपटॉप, हार्ड डिस्क और दूसरे चीजें हाथ लगी थीं। इसके साथ ही डेरे से काफी मात्रा में दवाइयां भी मिली, जिन पर किसी तरह का कोई लेबल नहीं लगा था। डेरे से पुरानी और नई करेंसी भी मिली। टीम ने आश्रम से एक ओवी वैन भी बरामद की है।सर्च आॅपरेशन के लिए हाईकोर्ट की मंजूरी मिल जाने के बाद मौके पर 5000 जवानों की तैनाती की गई। इस दौरान पूरी कार्रवाई की वीडियोग्राफी भी की गई। सर्च आॅपरेशन के मद्देनजर सिरसा में पुलिस, पैरा मिलट्री फोर्स की 25 कंपनियां तैनात की गई थीं। इसके अलावा आर्मी की 2 कंपनियां भी मौजूद रहीं। बम निरोधक दस्ते के 12 जवानों के अलावा 1000 जवान तैनात किए गए।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top