0

मोदी-आंग सान सूकी मुलाकात में उठा रोहिंग्या मुस्लिमों का मुद्दा


नेपेडॉ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की के साथ डेलिगेशन लेवल की वार्ता की। दोनों नेताओं ने वार्ता के बाद सांझा प्रेस वार्ता की, इस दौरान दोनों देशों के बीच कई समझौते हुए। मोदी ने सांझा प्रेसवार्ता में रोहिंग्या मुसलमानों का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि भारत म्यांमार की चुनौतियों को समझता है और शांति के लिए हर संभव मदद करेगा।
पीएम ने कहा कि भारत म्यांमार में शांति के लिए हर संभव मदद करेगा और भारत का लोकतंत्र म्यांमार के लिए भी काम आएगा। मोदी बोले कि मेरा जिस प्रकार से यहां पर स्वागत हुआ है ऐसा लग रहा है कि मैं अपने घर में ही हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि भविष्य में भी हमारे समझौते म्यांमार के हक में ही होंगे। वहीं मोदी और आंग सान की मौजूदगी में भारत और म्यांमार के बीच समझौतों का आदान प्रदान हुआ।
मोदी ने म्यांमार के राष्ट्रपति से मुलाकात को शानदार बताया, जिस दौरान उन्होंने दोनों पड़ोसी देशों के बीच ह्यऐतिहासिक संबंधों को और मजबूत करने के कदमों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री ने मुलाकात की कुछ तस्वीरें ट्वीट कर कहा, राष्ट्रपति यू हतिन क्याव के साथ मुलाकात शानदार रही। मोदी दो देशों की अपनी यात्रा के अंतिम पड़ाव पर म्यामां पहुंचे हैं। वह चीन में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शरीक होने के बाद यहां आए हैं।
म्यांमार के राखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों के साथ जातीय हिंसा की घटनाओं में तेजी आने के बीच प्रधानमंत्री की यह यात्रा हो रही है। रोहिंग्या लोगों के पड़ोसी देशों में पलायन करने का विषय चर्चा में मोदी द्वारा उठाए जाने की उम्मीद है। यह मोदी की म्यामां की पहली द्विपक्षीय यात्रा है। उन्होंने 2014 में आसियान भारत सम्मेलन में शरीक होने के लिए भी म्यांमार की यात्रा की थी।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top