0
गुडगांव। परियाणा सरकार प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच सीबीआई के हवाले करने पर सहमत हो गई है। इस बात ऐलान खुद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रद्युम्न के माता-पिता से मुलाकात करने के बाद किया। इसके अलावा गुडगांव का रेयान इंटरनेशनल स्कूल भी तीन माह के लिए सरकार के अधीन रहेगा।
प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच को लेकर पहले दिन से ही उसके माता-पिता सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। इस दौरान लगातार इस मामले में नए-नए खुलासे होते रहे। दो दिन पहले ही इस केस की जांच के लिए गठित की गई एसआइटी ने स्कूल सारे स्टाफ से पूछताछ की थी। इसके बाद कल फिर से पूछताछ जारी रही।
इस दौरान शुक्रवार को प्रद्युम्न के माता-पिता ने मुख्यमंत्री खट्टर से मुलाकात कर फिर से सीबीआई जांच की मांग को दोहराया। ठीक इसके बाद मुख्यमंत्री ने इस मामले में सीबीआई जांच का ऐलान कर दिया। उन्होंने बताया कि अगले तीन माह के लिए गुडगांव का रेयान इंटरनेशनल स्कूल सरकार के अधीन रहेगा।
शुक्रवार को ही प्रद्युम्न हत्याकांड के आरोपी कंडक्टर अशोक के वकील ने दावा किया कि इस हत्या के मामले में अशोक को फंसाया जा रहा है। इससे पहले भी अशोक की भूमिका को लेकर सवाल उठते रहे हैं। हालांकि ये भी कहा जा सकता है कि अशोक का वकील वही कर रहा है, जो बचाव पक्ष के वकील को करना चाहिए।
प्रद्युम्न की हत्या के बाद बस कंडक्टर अशोक ने पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल किया था। लेकिन इस मामले में अब नया मोड़ आ गया है। दरअसल, अशोक के वकील मोहित वर्मा ने दावा किया है कि अशोक बेगुनाह है। बस कंडक्टर अशोक के वकील मोहित वर्मा का कहना है कि अशोक को इस मामले में फंसाया गया है। पुलिस और स्कूल प्रबंधन ने अशोक पर दबाव बनाया और आरोप कबूल करवाने के लिए के पुलिस ने उसे बुरी तरह टार्चर किया। इस खुलासे ने एक बार फिर इस पूरे मामले पर सवालिया निशान लगा दिए हैं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top