0

नई दिल्ली। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनके बेटे पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर सीबीआई का घेरा बढ़ता जा रहा है। अब रेल होटल घोटाला मामले में सीबीआई ने पूर्व केंद्रीय रेल मंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे को बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को भी पूछताछ के लिए बुलाया है। दोनों को अलग-अलग दिन बुलाया गया है।
सीबीआई लालू से 11 सितंबर यानी सोमवार को तो तेजस्वी से 12 सितंबर यानी मंगलवार के दिन पूछताछ करेगी। इसी साल जुलाई में सीबीआई ने लालू के पटना और दिल्ली सहित करीब 12 ठिकानों पर छापेमारी की थी। लालू पर आरोप है कि जब वे रेलमंत्री थे, तब रेलवे के होटल के आवंटन को लेकर उन्होंने गड़बड़ियां की थी।
इस मामले में लालू यादव के अलावा उनकी पत्नी राबड़ी देवी, बेटे तेजस्वी यादव, लालू के सहयोगी प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता, विजय कोचर, विनय कोचर, सुजाता होटल्स, पटना के दोनों डॉयरेक्टर, डिलाइट मार्केटिंग कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (लारा प्रोजेक्टस) आईआरसीटीसी के पूर्व एमडी सहित कई लोगों पर सीबीआई ने पांच जुलाई को एफआईआर दर्ज की थी। सीबीआई ने इन लोगों के ऊपर आईपीसी की धारा 420, 120इ, 13 1 ऊ के तहत मामला दर्ज किया है।
सीबीआई के मुताबिक, जब लालू यादव रेलमंत्री थे तब रेलवे के दो होटल बीएनआर होटल पूरी और बीएनआर होटल रांची को आईआरसीटीसी को ट्रांसफर किया गया था और इनकी देखभाल रखने के लिए टेंडर इशू किए गए थे। बाद में यह पाया गया कि टेंडर बांटने में गड़बड़ियां हुई हैं। ये टेंडर सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेज को इशू हुए थे।
सीबीआई के मुताबिक, प्राथमिक जांच में ये पाया गया है कि ये टेंडर बांटने में कुछ गड़बड़ियां की गई हैं और इस प्राइवेट कंपनी को फायदा पहुंचाया गया है और इसके बदले लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार को एक जमीन का प्लाट दिया गया है। पहले ये जमीन डिलाईट मार्केटिंग कंपनी प्राइवेट लिमिटेड ने ली जिसकी कर्ता धर्ता सुजाता गुप्ता हैं।
सीबीआई के मुताबिक,जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री नहीं थे, तब साल 2010 से 2017 के बीच में ये जमीन उनके परिवार की कंपनी लारा प्रोजेक्टस में ट्रांसफर कर दी गई। अस्थाना ने बताया कि यह ट्रांसफर भी बेहद कम कीमत पर किया गया, जहां सर्कल रेट के मुताबिक जमीन की कीमत 32 करोड़ रुपए थी उसे लारा प्रोजेक्ट्स को करीब 65 लाख रुपए में स्थानांतरित किया गया। इन सभी मामलों में काफी गड़बड़ियां पाई गई थी, इसलिए इस मामले में सीबीआई ने 12 ठिकानों पर छापेमारी की है। ये छापेमारी पटना, रांची, दिल्ली, भुवनेश्वर और गुड़गांव में की गई थी।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top