0
गांधीनगर। पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल के शुरुआती दिनों के साथी केतन पटेल को राष्ट्रद्रोह के केस में कोर्ट ने बरी कर दिया है।  सेशन कोर्ट में लगाई गई अर्जी पर उसे सरकारी गवाह बनने की इजाजत मिल गई है।  हार्दिक पटेल और उसके चार साथियों पर आंदोलन के दौरान राष्ट्रद्रोह का आरोप लगा कर 9 महीने तक जेल में बंद रखा गया था।  हार्दिक ओर उसके साथी फिलहाल जमानत पर रिहा हैं।

हार्दिक पटेल और केतन पटेल पाटीदार आंदोलन की नींव कहे जाते थे।  दोनों ही आंदोलन को आगे ले जाने के लिए हमेशा एक दूसरे के साथ रहते थे।  जमानत पर रिहा होने  के बाद दोनों ने एक-दूसरे का साथ छोड़ दिया। तभी से आरोप प्रत्यारोप की राजनीति जारी है।  अब केतन के सरकारी गवाह बनने से हार्दिक की रणनीति की पूरी जानकारी कोर्ट तक पहुंचेगी।  जिसकी वजह से गुजरात चुनाव के वक्त पर हार्दिक की मुसीबतें बढ़ सकती हैं।  हार्दिक पटेल फिलहाल पाटन में लूट और मारपीट के केस में तीन दिन की पुलिस रिमांड पर हैं।  अगर केतन के बयान पर कार्रवाई होती है तो हार्दिक पटेल को लंबे समय तक जेल में रहना पड़ सकता है। 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top