0
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और दोनों उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और दिनेश शर्मा विधान परिषद के लिए निर्विरोध चुन लिए गए हैं। इन तीनों के अलावा स्वतंत्रदेव सिंह का भी निर्विरोध चयन हुआ है। विपक्षी पार्टियों ने बीजेपी उम्मीदवारों के खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारा।
यूपी सरकार में सीएम योगी आदित्यनाथ के अलावा चार मंत्री ऐसे थे जो न तो विधायक थे और न ही एमएलसी। ऐसे में उन्हें मंत्री पद पर बनने रहने के लिए 6 महीने के अंदर सूबे के किसी एक सदन का सदस्य होना लाजमी था। ऐसे में इन मंत्रियों के 19 सितंबर को 6 महीने पूरे हो रहे थे, इस डेटलाइन से पहले इन्हें सदन का सदस्य बनना था।
पिछले दिनों सूबे के पांच एमएलसी ने अपने पदों से इस्तीफा देकर बीजेपी का दामन थामा है। इनमें चार एसपी और एक बीएसपी एमएलसी थे। एसपी के यशवंत सिंह, अशोक वाजपेयी, सरोजिनी अग्रवाल और बुक्कल नवाब तो वहीं बीएसपी के जयवीर सिंह ने भी इस्तीफा दिया था।
चुनाव आयोग ने पांच सीटों के बजाए चार सीटों पर चुनाव कराने का फैसला किया था। जयवीर सिंह के कार्यकाल का एक साल से कम का समय बचे होने मना कर दिया था। लेकिन बाद में चुनाव आयोग ने दोबारा से अधिसूचना जारी करके रिक्त हुई जयवीर सिंह की सीट पर चुनाव कराने फैसला किया है। इससे बीजेपी के सभी सदस्यों की राह आसान हो गई।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top