0
नई दिल्ली/गुड़गांव। रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुई छात्र की हत्या ने नया मोड़ ले लिया है। मामले की जांच कर रही हरियाणा पुलिस ने कोर्ट में कई खुलासे किए हैं। पुलिस ने कहा कि स्कूल प्रशासन ने इस मामले में सबूत मिटाने की कोशिश किया है। पुलिस को मृतक प्रद्युम्न की बोतल पर खून के निशान भी मिले हैं। पुलिस का यह भी कहना है कि बाथरूम में लगी खिड़की की ग्रिल कटी हुई है। इससे कोई भी अंदर आ जा सकता है। एडीजी लॉ एंड आॅर्डर मो. अकील ने बताया कि हम क्राइम सीन की जांच कर रहे हैं। इस बात को समझने की कोशिश की जा रही है कि इस वारदात को अकेले अंजाम दिया गया या फिर कोई और भी साथ था। यदि एक से अधिक लोग इसमें शामिल थे, तो उनकी भूमिका क्या रही होगी। इसके साथ ही केस संबंधित कुछ और गवाहों की तलाश की जा रही है।
एडीजी ने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं कि बस कंडक्टर अशोक कुमार ने ही इस वारदात को अंजाम दिया है, लेकिन अभी जांच पूरी नहीं हुई है। हम सही ट्रैक पर जांच कर रहे हैं। इसमें शामिल किसी भी आरोपी को छोड़ा नहीं जाएगा। हम हर एंगल से इस केस की जांच कर रहे हैं। रेयान स्कूल की तरफ से बहुत लापरवाही की गई है, जिसकी जांच जारी है।
हरियाणा पुलिस ने रेयान स्कूल मैनेजमेंट के दो अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया है। इनके नाम फ्रांसिस थॉमस और जायेस थॉमस है। दोनों रेयान स्कूल मैनेजमेंट से जुड़े हुए हैं। पुलिस ने बताया कि दोनों की गिरफ्तारी जेजे एक्ट के तहत की गई है। वहीं, हरियाणा सरकार भी सीबीआई जांच के लिए तैयार है, क्योंकि जांच कमेटी ने स्कूल सुरक्षा खामियां पाई हैं।
रेयान इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार को दूसरी क्लास में पढ़ने वाले 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर के साथ कुकर्म की कोशिश करने के बाद उसकी गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। वारदात की रात पुलिस ने बस कंडक्टर अशोक कुमार समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस द्वारा पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल किया है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top