0

मौत का रहस्य और गहराया

गुडगांव। ड्राइवर के खुलासे के बाद सरकारी डाक्टर की रिपोर्ट भी यह संकेत दे रही है कि मामला इतना सीधा नहीं जितना दिख रहा है। कंडक्टर अशोक किसी दबाव अथवा लोभ के कारण आरोप अपने सर ले रहा है। सरकारी डॉक्टर दीपक माथुर को प्रद्युम्न के शरीर पर यौन शोषण से संबंधित किसी तरह के निशान नहीं मिले हैं।  उनके मुताबिक उसकी मौत ज्यादा खून बहने के वजह से हुई है, क्योंकि कातिल ने उसकी गर्दन पर चाकू से दो वार किए थे।

इससे पहले धारा 164 के तहत रेयान इंटरनेशनल स्कूल के दो बच्चों के बयान दर्ज किए गए हैं। दोनों बच्चों ने मजिस्ट्रेट और एसआईटी टीम के सामने बताया कि उन्होंने कंडक्टर अशोक को घटना के ठीक पहले बाथरूम में देखा था। इस मामले में पुलिस को कुछ और जानकारियां भी मिली हैं।
बच्चों के बयान के मुताबिक उस वक्त स्कूल के टॉयलेट में कुल तीन बच्चे थे। प्रद्युम्न की हत्या से पहले तीनों बच्चों ने कंडक्टर अशोक को टॉयलेट के अंदर देखा था। दरअसल, ये तीनों बच्चे अपनी ताइक्वांडो ड्रेस चेंज करने के लिए वहां गए थे।
बच्चों ने अपने बयान में खुलासा किया है कि उस वक्त एक माली भी टॉयलेट के अंदर था। उसने भी कंडक्टर को टॉयलेट के अंदर देखा था। इसके बाद चारों टॉयलेट के बाहर चले गए थे। इसी बीच बच्चे की हत्या हुई।
आरोपी बस कंडक्टर अशोक को तीन दिन की पुलिस रिमांड के बाद सोहना कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 18 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। सोहना कोर्ट में पेशी के लिए लाए गए आरोपी अशोक पर लोग भड़क गए और पीटने की कोशिशों के बीच काफी हंगामा हुआ। इसी बीच रेयान इंटरनेशनल स्कूल के बस ड्राइवर सौरभ राघव ने चौंकाने वाला खुलासा किया। उसने बताया कि हत्या में इस्तेमाल चाकू टूल किट का हिस्सा नहीं था। उसके बयान के बाद इस हत्याकांड का रहस्य और गहरा गया है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top