0
नई दिल्ली। गोवा की अदालत ने तहलका के संस्थापक पत्रकार तरुण तेजपाल के खिलाफ यौन उत्पीड़न के मामले में आरोप तय कर दिए हैं। कोर्ट के इस फैसले ने तरुण की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। उनकी बरसों की कमाई, नाम और शोहरत को बस एक कदम ने बर्बाद कर दिया। अपनी ही टीम की महिला पत्रकार के साथ यौन शोषण के आरोप में घिरे तरुण तेजपाल का अब कानून से बचना नामुमकिन हो गया है।
उल्लेख्य है कि 7 नवंबर, 2013 को शनिवार को गोवा के एक फाइव स्टार होटल में तहलका का थिंक फेस्ट चल रहा था। तहलका के एडिटर इन चीफ और जाने-माने पत्रकार तरुण तेजपाल समेत दुनिया के कई मशहूर चेहरे इस फेस्ट का हिस्सा थे। इन्हीं नामचीन चेहरों के बीच एक चेहरा उस गुमनाम लड़की का भी था, जो आई तो थी इस फेस्ट में अपनी ड्यूटी निभाने, लेकिन इससे पहले की वो अपना फर्ज अदा कर यहां से लौटती, वो खुद अपने ही बॉस तरुण तेजपाल के नापाक इरादों का शिकार बन गई।
लड़की की मानें तो तेजपाल ने उसके साथ एक नहीं, बल्कि दो-दो बार ज्यादती की और मुंह खोलने पर बुरे अंजाम की धमकी भी दी। तहलका की मैनेजिंग एडिटर शोमा चौधरी से की गई शिकायत के बाद जब इस लड़की ने गोवा पुलिस को अपने साथ बीती पूरी कहानी बताई, तो सुनने वाले बस सुनते ही रह गए। क्योंकि ये तेजपाल का वो चेहरा था, जो अब तक किसी ने नहीं देखा था।
गोवा पुलिस को दिए लड़की के बयान के मुताबिक, उस रात जब वह एक गेस्ट को उसके कमरे तक छोड़ कर वापस लौट रही थी, तो इसी होटल के ब्लॉक 7 के एक लिफ्ट के सामने उसे उसके बॉस तरुण तेजपाल मिल गए। तेजपाल ने गेस्ट को दोबारा जगाने की बात कह अचानक उसे वापस उसी लिफ्ट के अंदर खींच लिया, लेकिन अभी ये लड़की कुछ समझ पाती कि इसी बीच तेजपाल ने लिफ्ट के बटन कुछ ऐसे दबाने शुरू किए, जिससे ना तो लिफ्ट कहीं रुके और ना ही दरवाजा खुले।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top