0

चर्चा के लिए दुबारा नोटिस देने का आग्रह
कांग्रेस ने कहा-यह इतिहास का सबसे बड़ा स्कैन

नई दिल्ली। कांग्रेस की अगुआई में विपक्ष ने राज्यसभा में आरोप लगाया कि नोटबंदी के बाद 500 और दो हजार के नोट अलग-अलग तरह से प्रिंट किए जा रहे हैं और ये इस सदी का सबसे बड़ा स्कैम है। कांग्रेस के आरोप का साथ टीएमसी और जेडीयू ने भी दिया। अपोजिशन की नारेबाजी और हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्रवाई स्थगित कर दी गई। अरुण जेटली ने कहा कि अपोजिशन बिना नोटिस के जीरो आॅवर में दिक्कतें पैदा कर रहा है।
कांग्रेस को जेडीयू के शरद यादव और टीएमसी के डेरेक ओ ब्रायन का साथ भी मिला। शरद यादव और डेरेक ने 500 के नोट दिखाए। डेरेक ने कहा कि नोटबंदी के बाद 500 के दो तरह के नोट छापे गए और इन दोनों का साइज अलग है।
पहले तो डेरेक ने नोट जेटली को देने की बात कही लेकिन बाद में मुकर गए। जेटली ने कहा कि कांग्रेस ने पहले नोटा पर हंगामा किया और अब वो नोटों को लेकर सदन की कार्यवाही में दिक्कतें पैदा कर रही है।
कांग्रेस के ही कपिल सिब्बल ने कहा कि दो तरह के करंसी नोट्स प्रिंट किए जा रहे हैं। एक तो रूलिंग पार्टी के लिए हैं और दूसरे आम लोगों के लिए। हम आज इसकी वजह जानना चाहते हैं कि सरकार ने ऐसा क्यों किया। कांग्रेस के ही गुलाम नबी आजाद ने कहा कि ये देश के इतिहास का सबसे बड़ा स्कैम है।
कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने आजाद के आरोपों को गलत बताया। जबकि आजाद इसी बात पर अड़े रहे कि दो तरह के नोट प्रिंट किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस सरकार को पांच मिनट भी रहने का अधिकार नहीं है।
उप सभापति पीजे. कुरियन ने कहा-अगर दो तरह के भी नोट हैं तो भी इस पर प्वॉइंट आॅफ आॅर्डर नहीं लाया जा सकता। रवि शंकर प्रसाद ने अपोजिशन मेंबर्स से पूछा कि वो ये बताएं कि उन्हें ये नोट मिले कहां से? इस पर शरद यादव ने कहा- दुनिया के किसी भी देश में दो तरह की साइज के नोट नहीं होते।
कुरियन ने कहा डेरेक ओ ब्रायन से कहा कि आप ये नोट फाइनेंस मिनिस्टर को दें। इसके बाद कार्यवाही स्थगित कर दी गई। जब सदन फिर शुरू हुआ तो कुरियन ने कहा कि चर्चा के लिए फिर से नोटिस दिया जाए।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top