0

उपनगरीय रेल सेवाएं आंशिक रूप से बहाल

मुंबई। बारिश थमने के बाद अब मुंबई में जिंदगी धीरे-धीरे पटरी पर आ रही है और यहां वहां फंसे हजारों यात्री अपने घरों की ओर लौट रहे हैं। उपनगरीय रेल सेवाएं आंशिक रूप से बहाल हुई हैं। एक दिन पहले भारी बारिश के कारण मुंबई थम गयी थी। इस दौरान पांच लोगों की मौत भी हो गयी।
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक कल के मुकाबले आज मुंबई के ज्यादातार इलाकों में बारिश का कहर थोड़ा कम होगा। कुछ इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।
पश्चिम, मध्य और हार्बर लाइन पर उपनगरीय रेल सेवा आंशिक रूप से बहाल हो गयी। यह शहर की लाइफलाइन है जिस पर शहर के 65 लाख बाशिंदे निर्भर हैं।
मध्य रेलवे की हार्बर लाइन और मुख्य लाइन पर लोकल ट्रेन की सेवाएं चल रही हैं लेकिन रफ्तार काफी कम है, कई स्थानों पर पटरियां अभी भी पानी में डूबी हुई हैं इसलिए लोकल रुक-रुक कर चल रही है।
सड़क यातायात भी सामान्य हो रहा है। मुंबई और नजदीकी इलाकों में महाराष्ट्र सरकार के कार्यालय और शैक्षणिक संस्थान बंद रहे। शहर के प्रशासन ने कल शाम ऐहतियाती रूप से इन्हें बंद करने की घोषणा कर दी थी।
शहर और बाहरी इलाकों में कहीं से भी भारी बारिश की खबर नहीं है। आज सुबह आसमान में बादल कम रहे और यह लगभग साफ रहा। नौसेना ने कई स्थानों पर सामुदायिक रसोई और फूड काउंटर खोलकर यहां-वहां फंसे यात्रियों को राहत पहुंचाई।
हालांकि मुंबई की पहचान डब्बेवालों ने उपनगरीय रेल सेवाओं के पूरी तरह बहाल नहीं होने के कारण आॅफिस जाने वालों को लगभग दो लाख खाने के डब्बे नहीं पहुंचाने का फैसला लिया। कल मुंबई में भारी बारिश और तेज हवाओं के कारण रेल, सड़क और हवाई यातायात बाधित हो गया था। लोकल ट्रेन सेवाओं के बहाल होने के कारण कल शाम से विभिन्न उपनगरों और टर्मिनस रेलवे स्टेशनों पर फंसे हजारों यात्री अपने-अपने घरों की ओर रवाना हुए।
मुंबई में कल 316 मिमी बरसात हुई जो 26 जुलाई 2005 में हुई रिकॉर्ड 944 मिमी बारिश के बाद से सबसे ज्यादा है। कल शाम नौसेना के हैलिकॉप्टरों, गोताखोरों और एनडीआरएफ दलों को स्टैंडबाय पर रखा गया था।
पुलिस ने बताया कि उपनगरीय विख्रोली में मकानों के ढहने की अलग-अलग घटनाओं में कल दो बच्चों समेत तीन लोगों की मौत हो गयी।
अधिकारियों ने बताया कि नजदीकी ठाणे में बरसात से संबंधित घटनाओं में 32 वर्षीय एक महिला और एक किशोर लडकी की मौत हो गई जबकि दो अन्य लोग घायल हो गए।
शिवसेना शासित बृहन्मुंबई को आपदा से निबटने की खराब तैयारियों के लिए कड़ी आलोचना का सामना करना पड़  रहा है।
हालांकि शिवसेना ने नगरीय निकाय का बचाव करते हुए कहा है कि उसकी मशीनरी हालात से निबटने के लिए पूरी तरह से तैयार थी और कोई बड़ी घटना नहीं हुई है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top