0
नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के अलगाववादी नेता शब्बीर शाह के करीबी असलम वानी को प्रवर्तन निदेशालय ने श्रीनगर से गिरफ्तार किया है। टेरर फंडिंग से जुड़े होने के शक में गिरफ्तार असलम को अब पूछताछ के लिए दिल्ली लाया जा रहा है। दरअसल ईडी ने टेरर फंडिंग केस में बीते दिनों शब्बीर शाह सहित 7 लोगों को गिरफ्तार किया था, जिसके बाद अब वानी उनके हत्थे चढ़ा है। वानी और शाह दोनों पर मनी लॉन्ड्रिंग मामले के तहत केस दर्ज है।  
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 2005 में भी असलम वानी को गिरफ्तार किया था और वह इन दिनों जमानत पर था। पुलिस ने तब असलम के पास से शब्बीर शाह के लिए पाकिस्तान से हवाला के जरिये करीब 60 लाख रुपये भी बरामद किए थे। असलम ने पूछताछ में खुलासा किया था कि वह शब्बीर शाह और जैश-ए-मोहम्मद के लिए काम करता था। उसने यह भी बताया था की उसने सीमा पार से हवाला के जरिये आए दो करोड़ रुपये शब्बीर को पहुंचाए। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, तब सरकार शब्बीर शाह पर सॉफ्ट थी। तब अलगाववादी शब्बीर शाह को पूछताछ के लिए 161 नोटिस तो दिया गया, लेकिन कोई पूछताछ नहीं हुई। सीमा पार से टेरर फंडिंग के आज तक के आॅपरेशन हुर्रियत के बाद मामले की जांच कर रही एनआईए ने 24 जुलाई को कश्मीर और दिल्ली से 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया था।
इनमें अलताफ अहमद शाह, फंटूश गिलानी , अयाज अकबर खांडे, राजा मेहराजुद्दीन कलवल, पीर सैफुल्ला, आफताब हिलाली शाह, नईम खान और फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा कराटे शामिल है। गौरतलब है कि आॅपरेशन हुर्रियत में हुर्रियत के कई नेताओं ने कबूल किया था कि उन्हें पाकिस्तान से फंड मिलता है ताकि घाटी में अशांति का माहौल बनाए रखा जा सके। इस खुलासे के बाद ईडी ने अलगाववादी नेता नईम खान और बिट्टा कराटे के वॉइस और राइटिंग सैंपल लिए हैं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top