0
नई दिल्ली। हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष को आज दो दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। आईएएस आॅफिसर की बेटी को अगवा करने करने का प्रयास के आरोप में बुधवार को पुलिस ने दोनों को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। दोनों पर अपहरण की कोशिश का मामला दर्ज किया गया है। पूछताछ में विकास बराला ने कबूल किया कि वो पीड़िता की कार का पीछा कर रहा था।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि दोनों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 365 के तहत अपहरण की कोशिश का गैर जमानती आरोप लगाया गया है। उन पर धारा 511 भी लगायी गयी है जिसके तहत किसी अपराध की कोशिश करने पर उम्रकैद या अन्य अवधि तक कारावास का प्रावधान है।
महिला का पीछा करने के मामले में विकास और उसके दोस्त को दूसरी बार गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले दोनों महिला की शिकायत पर शनिवार को गिरफ्तार किये गये थे लेकिन उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया था। दरअसल तब दोनों पर भादसं और मोटर वाहन अधिनियम के तहत जमानती धाराएं लगायी गयी थीं। इस घटना पर देशभर में जबर्दस्त आक्रोश सामने आया है।
चंडीगढ़ के डीजीपी तेजिंदर सिंह लूथरा ने संवाददाताओं को बताया कि हमने आज दोनों को तलब किया था और उनसे  करीब तीन घंटे तक पूछताछ की गयी। उस दौरान कई चीजें सामने आयीं। उन्होंने कहा कि हमने तय किया है कि दोनों ही आरोपियों के विरुद्ध हम नये आरोप लगाने जा रहे हैं, पहला अपहरण की कोशिश का है, उसके लिए दो धाराएं होंगी 365 और 511 । हमने दोनों को गिरफ्तार करने का भी फैसला किया।
जब उनसे नये आरोप लगाने के पीछे की वजह पूछी गयी तो उन्होंने कहा कि पिछले चार दिनों में पुलिस ने गवाहों के बयान दर्ज किये और सीसीटीवी फुटेज खंगाले। उन्होंने कहा कि हमने अपराध का नाट्य रुपांतरण किया। हमने पीछा करने के मार्ग को फिर से समझने का यत्न किया। कई नये तथ्य और नये सबूत सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि दोनों ही कल अदालत में पेश किये जाएंगे। पुलिस उनकी हिरासत की मांग करेगी।
लूथरा ने कहा कि जांच में कई ऐसी बातें हैं जिनके लिए हमें उनकी हिरासत जरूरी है । हम उनका अपराध के तथ्यों और दृश्य से आमना सामना करायेंगे जो पीछा करने का मार्ग है। आरोपियों के साथ उसका नाट्य रुपांतरण किया जाएगा। उस प्रक्रियाओं में कई तथ्यों का सत्यापन किया जाएगा।
पीड़िता वर्णिका कुंडू ने दोनों की गिरफ्तारी को बड़ी बात बताया। उन्होंने जन समर्थन के लिए लोगों को धन्यवाद दिया और कहा कि यदि हम इस आंदोलन को जारी रखते हैं तो ऐसे मामले कम होते जाएंगे।
वैसे जब लूथरा से पूछा गया कि क्या आरोपी जांच में सहयोग कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि जांच में कई ऐसी चीजें होती हैं जिसे मैं नहीं बता सकता। यदि मैं ऐसा करता हूं तो जांच में बाधा आएगी। राजनीतिक दबाव से इनकार करते हुए उन्होंने कहा कि हम जो कुछ कर रहे हैं, पेशेवेर अंदाज एवं वस्तुनिष्ठ तरीके से कर रहे हैं।
आज विकास पीछा करने के मामले से जुड़ी जांच में शामिल होने के लिए चंडीगढ़ थाने पहुंचा था। सेक्टर थाने में हरियाणा भाजपा प्रमुख का पुत्र और उसका साथी करीब ढाई बजे एसयूवी से पहुंचे। इस मौके पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी।  विकास के थाने पहुंचने से पहले उसके पिता सुभाष ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया और कहा कि वह जांच में सहयोग करेंगे।
कांग्रेस और आप कार्यकर्ताओं ने इस कांड की निंदा करते हुए थाने के बाहर प्रदर्शन किया। वैसे आज सुबह डीजीपी ने मीडियाकर्मियों से कहा था कि पुलिस सुनिश्चित करेगी कि पीड़िता को इंसाफ मिले। उन्होंने दावा किया था कि इस मामले में पर्याप्त सीसीटीवी फुटेज हैं।
उन्होंने बताया कि दोनों ने मेडिकल परीक्षण के लिए नमूने देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि आरोपी विधि स्नातक हैं और उन्हें कानून की अच्छी समझ है। उन्होंने ड्यूटी डॉक्टर को नमूने देने से इनकार कर दिया। दरअसल उन्हें मालूम है कि कानून के तहत वे ऐसा कर सकते हैं।
मंगलवार को सुभाष बराला ने कहा था कि वर्णिका उनकी बेटी जैसी है और पुलिस पर उनकी या उनकी पार्टी की ओर से कोई दबाव नहीं है। 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top