0
नई दिल्ली। डोकलाम मुद्दे पर पस्त होने से चिढ़ा चीन पानी के जरिये भारत पर बड़ा हमला कर सकता है। इसका खुलासा आज विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार के एक बयान में जाहिर हुआ। उन्होंने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि इस साल चीन की ओर से ब्रह्मपुत्र नदी में पानी के स्तर को कोई जानकारी नहीं दी गई है। बरसात के मौसम में लगातार पड़ोसी देश एक-दूसरे से नदियों में बढ़ते जलस्तर और बांधों से कितना पानी छोड़ा जा रहा है, इस बारे में आंकड़े सार्वजनिक किए जाते हैं, ताकि अगर बाढ़ जैसे हालात हों तो उससे निपटने की तैयारी की जा सके।

वैसे से उत्तर भारत बाढ़ की चपेट में है। बिहार, असम, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ से लाखों लोग प्रभावित हैं। ऐसे में अगर चीन बिना बताए ब्रह्मपुत्र नदी में ज्यादा पानी छोड़ेगा तो इससे इन राज्यों के साथ-साथ दूसरे राज्यों में स्थिति और भयावह हो सकती है। दरअसल डोकलाम मुद्दे को लेकर चीन की ओर से लगातार भारत को युद्ध की धमकी मिल रही है। लेकिन चीन भारत पर सैन्य हमला किए बिना ही हमें बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। चीन भारत पर सैन्य हमले की बजाय पानी के जरिए हमला कर सकता है। इससे सिर्फ बॉर्डर पर नहीं बल्कि कई राज्यों में तबाही मच सकती है। चीन की भौगोलिक स्थिति देखें तो वह भारत से ऊंचे स्थान पर है। वहीं चीन के पास कई बांध हैं। भारत में ऐसी कई बड़ी नदी हैं जो चीन से निकलकर भारत में आती हैं, जिनमें से ब्रह्मपुत्र नदी सबसे बड़ी नदी है। अगर चीन चाहे तो कुछ दिनों तक पानी बांध पर रोककर छोड़ सकता है जिससे भारत में तबाही का मंजर हो सकता है। सिर्फ ब्रह्मपुत्र नदी ही नहीं बल्कि चीन से सतलुज नदी भी निकलती है। सतलुज नदी चीन के कब्जे वाले तिब्बत से निकलकर हिमाचल प्रदेश और पंजाब में आती है। वहीं तिब्बत से निकलकर सिंधु नदी लद्दाख से होते हुए निकलती है और अरब सागर में मिलती है। साफ है कि चीन के पास तीन ऐसी बड़ी नदी हैं जो भारत में तबाही का कारण बन सकती हैं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top