0

कई मामलों में थी इस मोस्ट वॉन्टेड आतंकी की तलाश


श्रीनगर। कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षा बलों ने मंगलवार को लश्कर के कुख्यात कमांडर अबु दुजाना समेत दो आतंकियों को मार गिराया। इस मुठभेड़ के दौरान सेना ने हाकरीपोरा गांव में घेरा डाला था। आर्मी ने दोनों आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि की है। आतंकियों के मारे जाने के विरोध में 100 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों ने सेना पर पथराव किया। इससे पहले सेना ने रविवार को भी पुलवामा के तहाब गांव में दो आतंकियों को मार गिराया था। सूत्रों के मुताबिक सुरक्षा बलों को पुलवामा के हाकरीपोरा में दुजाना और उसके एक साथी आरिफ लिलहारी के छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद मंगलवार तड़के सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर शुरू हुआ, जिसमें दोनों आतंकी मारे गए। दोनों के शव बरामद कर लिए गए हैं। आॅपरेशन खत्म हो गया है।
आतंकियों की मौत के विरोध में 100 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाकर्मियों पर पथराव किया। जवाबी कार्रवाई में दो लोग घायल हो गए।
विधि व्यवस्था बनाए रखने के लिए जम्मू-कश्मीर में स्कूल-कॉलेज और इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई हैं। एनकाउंटर के बाद पुलिस और सेना ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि दुजाना कश्मीर में सिर्फ अय्याशी कर रहा था। वह लड़कियों की सुरक्षा के लिए खतरा बन गया था। लोग पथराव करें या न करें, वे अड़ंगे लगाएं या नहीं, हमारा यहां आॅपरेशन चलता रहेगा। आतंकियों ने भारी गोलाबारी की लेकिन फोर्सेस की कार्रवाई के आगे ठहर नहीं सके। जिस घर में वे छिपे हुए थे, हमने उसे भी उड़ा दिया। दुजाना ए कैटेगरी का आतंकी था। उस पर 10 लाख का इनाम था। 2013 में आतंकी अबु कासिम की मौत के बाद दुजाना को कमांडर बनाया गया था। उसने कश्मीर में कई हमलों को अंजाम दिया था। उल्लेख्य है कि कश्मीर में इस साल आतंकी घुसपैठ की कोशिशों में इजाफा हुआ है। आर्मी ने अब तक घुसपैठ की 23 कोशिशें नाकाम की हैं। इस दौरान हुई फायरिंग में 41 आतंकी मारे गए हैं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top