0

नहीं भरा तो काटा कनेक्शन

जमशेदपुर। यह एक परिवार द्वारा खपत की जाने वाली बिजली का विश्व रिकार्ड हो सकता है। इसे गीनीज बुक में दर्ज कराया जाना चाहिए। इतनी बिजली की खपत टेल्को, टिस्को या बड़े से बड़े कारखाने में भी एक महीने में नहीं होती होगीे जितनी तीन कमरे में रह रहे एक परिवार के नाम बिजली विभाग ने दर्ज किया है। झारखंड के जमशेदपुर में बीआर गुहा नामक व्यक्ति के पास एक महीने का बिजली बिल आया है 38 अरब का। उनके घर में तीन कमरे हैं जिनमें 3 पंखे, 3 ट्यूबलाइट और एक टीवी मौजूद है। न कूलर है न एसी।
दिलचस्प बात यह है कि बिजली विभाग ने इस बिल को मानवीय या तकनीकी भूल नहीं माना और बिल की अदायगी नहीं होने पर कनेक्शन काट दिया। बिजली विभाग प्राय: गलत बिल आने पर उसके संशोधन के लिए तैयार तो होता है लेकिन उसकी शर्त होती है कि जो बिल आया है उसे जमा कर दिया जाए। बाद के बिलों में शेष रकम समायोजित कर ली जाएगी। अब तीन कमरे में रहने वाला एक मध्यम वर्गीय परिवार 38 अरब रुपया लाए कहां से।
यह बिजली विभाग का पहला कारनामा नहीं है। इससे पहले भी इस तरह के कारनामे होते रहे हैं और गलत बिलिंग के लिए विभाग के किसी अधिकारी को दंडित किए जाने का दृष्टांत भी नहीं है। ऐसी घटनाएं यह सोचने को विवश कर देती हैं कि क्या सचमुच इस देश में कोई सरकार, कोई सुनियोजित व्यवस्था है? न्यायपालिका के अलावा आमलोगों की फरियाद सुनने वाला कोई है?
गुहा की बेटी का कहना है कि मां को शुगर की बीमारी है और पिता को ब्लड प्रेशर है। वे बिल देखकर चौंक गए थे, लेकिन बाद में पड़ोसियों ने इसमें दखल दिया। जिसके बाद हमने बिजली विभाग के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। पता नहीं ऊर्जा मंत्रालय के लिए यह अनियमितता की श्रेणी में आता है या नहीं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top