0

- मणिपुर की लोईलोई बनी फर्स्ट रनर्स उप और चेन्नई की रागस्या बनी सेकंड रनर्स उप
- मिस ट्रांस्सैक्सुअल आॅस्ट्रेलिया इंटरनेशनल 2017- लेटिसिया फिलिसिया रवीना ने विजेताओं का ताज पहनाया, जबकि मिस्टर गे वर्ल्ड इंडिया 2014- सुशांत दिवगिकर ने अपनी शानदार परफार्मेंस से दर्शकों का दिल जीत लिया


गुरुग्राम.
मिस ट्रांसक्वीन इंडिया 2017 के प्रथम संस्करण का गुरग्राम के होटल ब्रिस्टल में बड़ी धूमधाम से समापन हुआ। कोलकाता की निताशा बनी मिस इंडिया ट्रांसकीन 2017, जो भारत को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधितत्व करेंगी. मणिपुर की लोईलोई बनी फर्स्ट रनर्स उप और चेन्नई की रागस्या बनी सेकंड रनर्स उप
किन्नर ;ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए आयोजित अपनी तरह की इस अनूठी सौंदर्य प्रतियोगिता में जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों की बड़ी संख्या में भागीदारी देखी गयी। देश भर से 1500 से अधिक किन्नरों ने इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए कड़ा प्रयत्न किया, जिनमें से सर्वश्रेष्ठ 16 को फाइनलिस्ट चुना गया। इन्होंने देश के प्रमुख प्रांतों का प्रतिनिधित्व किया।
इन चुनिंदा प्रतियोगियों के लिए सप्ताह भर तक कई विशेषज्ञों द्वारा ग्रमिंग सत्र आयोजित किये गये। प्रतियोगिता की विजेता को थाईलैंड में होने वाले इस समुदाय के सबसे प्रतिष्ठित अवार्ड - मिस इंटरनेशनल ट्रांसक्वीन में भारत का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिलेगा।
अभिनेत्री एवं सामाजिक कार्यकर्ता गौरी सावंत इस कार्यक्रम में जूरी के रूप में शामिल होने के लिए मुंबई से पधारी थीं। उन्होंने कहा, ह्यनालसा फैसले के बाद पहली बार किन्नर महिलाओं के लिए राष्ट्रीय स्तर पर यह एक बड़ा आयोजन हो रहा है। मुझे पूरा विश्वास है कि इससे ट्रांससैक्सुअल समुदाय को बल मिलेगा और अब वे अवश्य ही एक अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपने देश व समुदाय का प्रतिनिधित्व कर सकेंगे।
शो के निर्देशक शाइन सोनी द्वारा निर्देशित तीन रंगारंग राउंड्स के बाद, इन आठ बेहतरीन उम्मीदवारों को चुना गया- नव्या (मुंबई), लॉयलॉय (मणिपुर), रागास्या (चेन्नई), नताशा (कोलकाता), रॉकी (बेंगलुरु), रवा (मणिपुर), नमिता (चेन्नई) और जरीन शेख (दिल्ली)। इस अवसर पर शाइन ने कहा, ह्ययह प्रगतिशील भारत की दिशा में एक महान कदम है, जहां हम किसी के लिंग की बजाय मानव जाति के अस्तित्व में विश्वास करते हैं। यह जश्न मनाने जैसा है कि आप जो हैं उसमें खुश रहिए।
प्रतिष्ठित ज्यूरी में प्रमुख विशेषज्ञ शामिल थे, जैसे कि सामाजिक कार्यकर्ता गौरी सावंत, एचआईवी एड्स एलायंस की डायरेक्टर सोनल मेहता, अभिनेता सुशांत दिवगिकर, कॉस्मेटोलॉजिस्ट अवलीन खोखर, माइंड थेरेपिस्ट वरुण कत्याल, पोषण व सौंदर्य विशेषज्ञ हेक्टर रवींद्र दत्त, डीपीएस रोहतक की प्रिंसिपल इंदु पांडे, तथा वरिष्ठ पत्रकार व आरजे सिमरन कोहली। सम्मानित अतिथियों में प्रमुख थे- कर्नल योगेश अब्ब, फिल्म निमार्ता मनोज शर्मा, कार्यकर्ता रतन कौल एवं फैशन डिजाइनर संजना जॉन।
कार्यक्रम की शुरूआत मिस ट्रांस्सैक्सुअल आॅस्ट्रेलिया इंटरनेशनल 2017- लेटिसिया फिलिसिया रवीना की एक रंगारंग प्रस्तुति से हुई, जिन्होंने लेडी गागा के चर्चित ट्रैक बॉर्न दिस वे पर परफॉर्म किया। इसके बाद, सुशांत दिवगिकर (मिस्टर गे वर्ल्ड इंडिया 2014) और अनवेष साहू (मिस्टर गे वर्ल्ड इंडिया 2016) की परफॉर्मेंस हुई। रवीना ने कहा, ह्यइन सभी प्रतियोगियों के साथ बहुत अच्छा अनुभव रहा। मुझे लगता है यह सब जारी रखना चाहिए, क्योंकि इससे एक बेहतर भारत और एक प्रगतिशील भारत का निर्माण होगा।
पुरस्कार विजेताओं में जो प्रतियोगी प्रमुख रहे वे हैं- शोनाली (मिसेज चार्मिंग ट्रांसक्वीन), रोहित (मिसेज पॉपुलर), जरीन शेख (मिस इंटेलेक्चुअल), बंटी मेहरा (मिस टाइमलेस ब्यूटी), ललॉय (मिस रैम्पवॉक), रॉकी (मिस एलीट), रागस्या (मिस फिट), नताशा (मिस फोटोजेनिक), एलिजा (बैस्ट कॉस्टयूम), नव्या (मिस टेलेंटिड) और एमी (मिस ब्यूटीफुल लैग्स)।
मिस ट्रांसक्वीन इंडिया प्रतियोगिता के पीछे जिस व्यक्ति का दिमाग रहा, वे हैं सुहानी ड्रीमकैचर्स, दिल्ली की रीना राय। उन्होंने कहा, ह्ययह समुदाय देश में सबसे अधिक पिछड़े वर्गों में से एक है, क्योंकि वे पुरुषों व महिलाओं की श्रेणी में फिट नहीं होते। वे सामाजिक बहिष्कार, भेदभाव, शिक्षा व चिकित्सा सुविधाओं की कमी से लेकर बेरोजगारी आदि अनेक समस्याओं का सामना करते हैं। मुझे आशा है कि इस पहल के बाद चीजें बदलेंगी। तभी मुझे लगेगा कि मेरा मिशन पूरा हो गया है। इस ईवेंट में सामाजिक कार्यकतार्ओं, डिजाइनरों के साथ साथ दिल्ली के नामी गिरामी लोगों ने भाग लिया जो इस प्रगतिशील कदम को और आगे बढ़ाने में मददगार साबित होंगे। मिस ट्रांसक्वीन इंडिया 2017 के आयोजन में एचआईवी एंड एड्स एलाइंस, मिलाप, लाइसैप, अमित जैम्स, एजीआई ज्वेलर्स तथा एकता कपूर मेकओवर्स का भी भरपूर सहयोग रहा। 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top