0

अभी तक 870.88 करोड़ का घोटाला सामने आया
बिहार विधानसभा में हंगामा, सदन मंगलवार तक स्थगित

पटना। बिहार के सृजन घोटाले में अब तक 18 अभियुक्त सलाखों के पीछे पहुंचाए जा चुके हैं। बिहार डीजीपी पीके ठाकुर ने कहा कि अभियुक्त के घर से बरामद 2003 की चिठ्ठी में भागलपुर के तत्कालीन जिलाधिकारी ने सृजन के खाते में पैसा ट्रांस्फर करने का आदेश दिया था। अभी तक 870.88 करोड़ का घोटाला सामने आ चुका है।
डीजीपी के मुताबिक 624.86 करोड़ भागलपुर के विभिन्न सरकारी विभागों के, 162.92 करोड़ रुपये सहरसा के भू अर्जन शाखा और 83.10 करोड़ रुपये बांका के भू अर्जन शाखा से ट्रांसफर हुए हैं। मामले में अब तक कुल 11 एफआईआर दर्ज किए गए हैं, जबकि 18 अभियुक्त गिरफ्तार किए गए हैं। उन्होंने कहा कि संलिप्तता में जिला कल्याण पदाधिकारी सहित कुल 5 पदाधिकारियों और कर्मियों को निलंबित किया गया है।
बिहार विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को विपक्ष ने सृजन घोटाले और बिहार में बाढ़ को लेकर जमकर हंगामा किया। हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।
मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को बदले राजनीतिक समीकरण के बीच विधानसभा की कार्यवाही प्रारंभ होने के पूर्व ही विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के सदस्यों ने विधानसभा के मुख्यद्वार पर हाथों में तख्तियां और पोस्टर लेकर प्रदर्शन किया और जमकर नारेबाजी की। इसके बाद पूर्वाह्न 11 बजे सदन की कार्यवाही प्रारंभ होते ही विपक्षी सदस्यों ने सदन के अंदर हंगामा शुरू कर दिया।
विपक्षी सदस्य सृजन घोटाले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी से इस्तीफे की मांग कर रहे थे। वहीं वामपंथी दलों ने बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की।
इन दोनों मुद्दों को लेकर विपक्ष हंगामा करता रहा। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी सदस्यों से सदन में सार्थक बहस की अपील करते रहे, लेकिन उनकी बातों का कोई असर विपक्षी सदस्यों पर नहीं हुआ। इसके बाद हंगामा को देखते हुए सदन की कार्यवाही मंगलवार पूर्वाहन 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पहले वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने विधानसभा में अनुपूरक बजट पेश किया।
इधर, विधानसभा परिसर से बाहर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के इस्तीफे के बिना सृजन घोटाले की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती। उन्होंने सृजन घोटाले को देश का सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए आरोप लगाया कि नीतीश और सुशील मोदी सृजन इसमें संलिप्त हैं।
आरोपी की मौत के बाद आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर आरोप लगया है। लालू ने अपने ट्वीट में लिखा है, सृजन महाघोटाले में पहली मौत। 13 गिरफ़्तार, उनमें से एक की मौत। मरने वाला भागलपुर में नीतीश की पार्टी के एक बहुत अमीर नेता का पिता था।
वहीं महेश मंडल के परिजनों ने मौत पर सवाल उठाए हैं। परिजनों का आरोप है कि महेश का इलाज सही ढंग से नहीं किया गया जिसके चलते उनकी मौत हुई। उनका ये भी कहना है कि महेश जिंदा होते को घोटाले से संबंधित कई और राज खोल सकते थे।
ये घोटाला बिहार के भागलपुर में सामने आया है। जहां सृजन महिला आयोग नाम की संस्था ने बैंक और ट्रेजरी अधिकारियों के साथ मिलकर करोड़ों रुपये के गबन को अंजाम दिया। बैंक अधिकारी सरकारी फंड को गुपचुप तरीके से सृजन के खाते में डाल देते थे। संस्था ने पैसे को रियल एस्टेट जैसे धंधों में लगाकर करोड़ों रुपये के वारे-न्यारे किए। बिहार सरकार ने मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top