0
चंडीगढ़। रेप केस में 20 साल की सजा काट रहे राम रहीम की प्रॉपर्टी की लिस्ट तैयार हो गई है। देश भर में राम रहीम के फैले हुए साम्राज्य की जमीन की कीमत निकाली गई है। इसके तहत 18 जिलों में उनके डेरे के नाम पर 1093 एकड़ जमीन है, जिसकी कीमत 1151 करोड़ रुपये आंकी गई है। इससे सरकार 204 करोड़ रुपये वसूलने की तैयारी कर रही है। जानकारी के मुताबिक, राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद हुई हिंसा में करीब 204 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, जो सरकार उनकी संपत्ति से वसूलेगी। यह खर्च अभी बढ़ सकता है, क्योंकि सरकार ने लोगों के हुए नुकसान की डिटेल भी मांगी है। इसके लिए एफआईआर दर्ज करवाकर डिटेल दी जानी है। इसके साथ ही सरकारी संस्थाओं का नुकसान भी हैं।

इस 204 करोड़ रुपये में रोडवेज का 14 करोड़, उत्तरी रेलवे के 50 करोड़, सेना और अर्द्धसैनिक बालों के 45 करोड़ और पंचकूला समेत प्रदेश भर में हिंसा और आगजनी का 95 करोड़ का नुकसान दिखाया गया है। हिंसा के बाद पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट द्वारा दिए गए आदेश के बाद ही सरकार नुकसान का आंकलन करके इसे राम रहीम की संपत्ति से वसूलेगी। सिरसा में स्थित छोटा डेरा वर्ष 1948 में शाह मस्ताना जी द्वारा स्थापित किया गया था। उस दौर में छोटे डेरा में 2 कमरे हुआ करते थे। इसमें से एक में स्वयं शाह मस्ताना जी रहते थे। इन कमरों को नीचे अंडरग्राउंड जीवन के अनुकूल बनाया गया था। उस समय एसी की व्यवस्था नहीं थी, इसलिए इन कमरों में गर्मियों में ठंडक और सर्दियों में गर्मी रहती थी। शाह मस्ताना जी के सेवादार उस दौर में उस कमरे को गुफा बुलाते थे। इसके पीछे उनका तर्क था कि बाबाजी गुफा में एकांत में साधना में लीन रहते हैं। इसी गुफा शब्द की परंपरा गुरमीत राम रहीम के दौर तक भी प्रचलित है। बताया जाता है कि शाह मस्ताना जी के वक्त में डेरा के पास कुल 5 एकड़ जमीन थी। जो अब बढ़कर 1093 एकड़ हो चुकी है।
साल 1960 में सिरसा के ही गांव जलालआना के रहने वाले सरदार हरबंस सिंह को शाह मस्ताना जी ने नया नाम शाह सतनाम दे कर गद्दी पर बिठाया। इस गद्दी को संभालने वाले संत शाह सतनाम जी ने डेरा की परंपराओं को आगे बढ़ाया और अपने कार्यकाल में वे भी इसी छोटे डेरे में आवास करते थे। 23 सितंबर 1990 में शाह सतनाम जी ने गुरमीत राम रहीम को गद्दी सौंप दी।
उसके बाद डेरा का आकार और संपत्ति बढ़ती चली गई। आज डेरा के पास सिरसा में 1093 एकड़ जमीन है। इसमें 768 एकड़ जमीन में एलोवीरा, नरमा और हर्बल प्लांट्स की खेती की जाती है। यहां आलिशान और भव्य इमारते बनी हैं। मौजूदा वक्त में डेरा सच्चा सौदा के पास आधुनिक शैली में बने रेस्टोरेंट, अस्पताल, स्टेडियम, स्कूल-कॉलेज आदि हैं।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top