0

सदमे में डूबी हैं तीन भुक्तभोगी महिलाएं

घरों के बाहर कहीं नीम के पत्ते तो कहीं नींबू-मिर्च
महिला सफाईकर्मियों ने किया गांव में साफ-सफाई से इनकार


नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली छावला स्थित कांगनहेड़ी गांव में एक ही दिन में तीन महिलाओं की रहस्यमय तरीके से चोटी काटने की घटना ने पूरे गांव में खौफ पैदा कर दिया है। डर के कारण गांव की लड़कियों ने स्कूल तक जाना बंद कर दिया है। हरियाणा के मेवात, गुड़गांव और झज्जर जिले के बाद अब दिल्ली में भी इस तरह की घटना से लोगों की नींद उड़ी हुई है। कांगनहेड़ी गांव के कुछ लोग इसे चोटी काटने वाला शैतान बता रहे हैं, तो कुछ इसे अनदेखी शक्तियों से जोड़कर देख रहे हैं। दरअसल गांव में एक के बाद एक हुई तीन घटनाओं से ग्रामीण खासा सहमे हुए हैं। ग्रामीणों के अनुसार, मुनेश, ओमवती और श्रीदेवी नामक जिन तीन महिलाओं के साथ यह वाक्या हुआ उन्होंने बताया कि वह घर पर अकेली थी। अचानक उनके सिर में काफी तेज दर्द उठा, वह अचेत हो गईं। इससे पहले कि वह कुछ समझ पाती उनके बाल कटे मिले। दरवाजा अंदर से बंद था, ऐसे में कौन घर में दाखिल हुआ, बाल किसने काटे। ये सभी सवाल चर्चा का विषय बने हुए हैं। तीनों महिलाएं अभी तक सदमे से उबर नहीं पाईं हैं। पिछले दो दिनों से ग्रामीण रात में पूरे गांव की पहरेदारी कर रहे हैं। गांव में दहशत का आलम यह है कि कुछ परिवार गांव छोड़कर अपने रिश्तेदारों के वहां चले गए हैं। वहीं एमसीडी की महिला सफाईकर्मियों ने गांव में साफ-सफाई करने से साफ इनकार कर दिया है। कुछ ग्रामीण इसे तंत्र-मंत्र, जादू-टोने से जोड़कर देख रहे हैं। अनदेखे साये का जिक्र करते हुए लोगों ने अपने घरों के बाहर झाड़-फूंक से जुड़ा सामान रखना शुरू कर दिया है। मसलन कुछ घरों के बाहर नीम के पत्ते रखे हुए हैं तो कुछ घरों के बाहर नींबू-मिर्च आदि लटके नजर आ रहे हैं। वहीं कुछ ग्रामीण दहशत के साये से अपने तरीके से निपटने की बात कह रहे हैं। सोमवार को ग्रामीणों ने इस बारे में पुलिस को लिखित शिकायत दी। जिसके बाद पुलिस ने चोटी काटने वाले शैतान के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर ली है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ महिला सम्मान को ठेस पहुंचाने, मारपीट, अनाधिकृत प्रवेश और आर्म्स एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। अब पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। पुलिस के लिए अभी तक यह केस मानो ऐसा है कि बगैर अपराधी के अपराध को अंजाम दे दिया गया हो। फिलहाल जांच अधिकारी भी समझ नहीं पा रहे हैं कि इस केस की शुरूआत कहां से की जाए। क्योंकि इस मामले में न ही कोई नामजद आरोपी है और न ही चोटी काटने वाले उस शैतान की तस्वीर पुलिस के सामने है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top