0
पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महागठबंधन टूटने के मुद्दे पर सफाई देते हुए कहा कि मेरे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। महागबंठन बचाने की मैंने पूरी कोशिश की। सीएम नीतीश कुमार ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुकाबला करने की किसी में क्षमता नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि महागठबंधन की पार्टियों के तरफ से कई बयान दिए गए जो गठबंधन धर्म के खिलाफ था। हमारी पार्टी के तरफ से लालू प्रसाद के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया गया। इस दौरान हमने कई बातों को बर्दाश्त किया। नीतीश कुमार ने कहा कि लालू प्रसाद के कई बार बात हुई। करप्शन से समझौता के लिए पार्टी कभी तैयार नहीं थी। आम जनता के बीच उन्हें स्पष्टीकरण देना चाहिए था लेकिन सफाई नहीं दी गई। सीएम ने कहा कि सेक्युलरिजम एक विचार है। सेक्युलरिजमऔर डेमोक्रेसी में मुझे पक्का यकीन है और हमें किसी पार्टी से सार्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। मैं आलोचना से परेशान नहीं हूं। मैं काम में यकीन करता हूं। समाज के हर तबके के लिए काम करता हूं। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर हमला करते हुए कहा कि महागठबंधन किसी के खिदमत करने के लिए नहीं बनाया गया था। हमारे समर्थकों ने आंख बंदकर राजद का समर्थन किया लेकिन लालू प्रसाद हमारे पक्ष में ऐसा नहीं करा पाएं। मैं गांधी के विचारों में यकीन रखता हूं। आप मेरे खिलाफ लिख रहे हैं लेकिन मैं परेशान नहीं हूं। अगर मैं करप्शन से समझौता करता तो हो सकता था कि आप मेरे ऊपर और हमला करते। सीएम ने कहा कि मैंने 20 महीने महागठबंधन की सरकार चलाई। आप सरकार के काम की व्याख्या कर लीजिए। काम करने में हमने कोई कोताही नहीं बरती। हमे कास्ट बेस पर नहीं बल्कि मास बेस पर भरोसा है। हमने जो भी निर्णय लिया वो बिहार के हित में लिया। उन्होंने माना कि महाठबंधन सरकार में  गर्वनेंस के मामले में थोड़ी दिक्कत होती थी।उपराष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर सीएम नीतीश ने कहा कि मैं गोपाल कृष्ण गांधी को समर्थन करने का वचन दे चुका हूं और मेरी पार्टी उपराष्ट्रपति चुनाव में उनकी उम्मीदवारी का समर्थन करेगी।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top