0

मंत्री रहते कुछ गलत नहीं किया, घोटाले के वक्त 13-14 साल का था, क्या उस उम्र में घोटाला करता?

पटना। बिहार में नीतीश सरकार की कैबिनेट बैठक से पूर्व जदयू नेता केसी त्यागी ने स्पष्ट किया है कि पार्टी की ओर से तेजस्वी को कोई अल्टीमेटम नहीं दिया गया है। किसी इस्तीफे की मांग भी नहीं की गई है। किसे उपमुख्यमंत्री बनाना है यह राजद का फैसला है। इससे पहले मंगलवार को हुई जेडीयू की बैठक के बाद ऐसी खबरें आई थी कि जेडीयू ने राजद को चार दिन का अल्टीमेटम दिया है।
दरअसल महागठबंधन में लगातार उथल-पुथल चल रही है। बुधवार को नीतीश कुमार ने अपनी कैबिनेट बैठक बुलाई जिसमें तेजस्वी यादव भी शामिल हुए। जदयू नेता केसी त्यागी के मुताबिक जदयू ने केवल यह कहा है कि सार्वजनिक जीवन में लोगों के बीच जाकर चीजों को साफ करना चाहिए। किस को उपमुख्यमंत्री बनाना है किसको नेता बनाना है, यह आरजेडी का अपना फैसला है। घोटाले में अपना नाम आने के बाद पहली बार मीडिया से खुद मुखातिब हुए तेजस्वी ने कहा कि ये महागठबंधन को तोड़ने की बीजेपी की साजिश है। वह भयभीत है, इसलिए इस तरह के आरोप लगा रही है।
राजद सुप्रीमो के बेटे तेजस्वी ने कहा, पहले दिन से ही हमारी नीति रही है कि करप्शन के मामले में जीरो टोलरेंस की नीति रहेगी। तीनों विभाग जो मेरे पास रहा कोई उंगली नहीं उठा सकता और हमने सभी के लिए काम किया है।' इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'मंत्री बनने के बाद तो हमने कुछ गलत किया नहीं और जिस वक्त घोटाले की बात कही जा रही है, उस वक्त मैं महज 13-14 साल का था, तब तो मेरी मूंछ भी नहीं आई थी। बताइये 13-14 साल का कोई लड़का क्या घोटाला करेगा?'

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top