0
अलीगढ़। नगर निगम के प्रयासों और  महानगर वासियों की सक्रियता के चलते अलीगढ़ शहर भारत के अंतर्गत बनाए जाने वाले स्मार्ट सिटी की सूची में तो शामिल हो गया है परंतु नगर निगम की कार्यप्रणाली और मेयर के मनमाने रवैये के चलते महानगर में जहां तहां कूड़े के ढेर एवं उन पर आवारा पशु विचरण करते हुए देखे जा सकते हैं। दरअसल कागजी तौर पर तो अलीगढ़ नगर निगम बहुत सशक्त एवं सक्रिय है परंतु जमीनी स्तर पर फिसड्डी ही साबित हो रहा है। महानगर में जहां तहां कूड़े के ढेर लगे रहते हैं एवं नगर निगम के कर्मचारी नदारत रहते हैं। वे मनमाने तरीके से अपने कार्यों को अंजाम देते हैं। इसके कारण बारिश के मौसम में रोगों के संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है। मेयर शकुंतला भारती जो कि बी जे पी के कोटे से चुनकर मेयर बनी हैं एवं जिनका कार्यकाल अब लगभग समाप्ति की ओर है, ने भी अपने पूरे कार्यकाल के दौरान अपने ही किए गए वादों को भी पूरा करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है फिर चाहे वह शहर के व्यस्त बाजारों में शौचालय निर्माण का मुद्दा हो अथवा जनसमस्या आधारित अन्य कोई कार्य मेयर की उपेक्षा सर्वविदित है।
खुले में कूड़ा डालने एवं नाले-नालियां साफ करने के लिए एनजीटी एवं सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करने में भी महानगर निगम प्रशासन अव्वल रहा है ।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top