0
एमएस धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक नया विश्व रिकॉर्ड बनाने के लिए तैयार हैं। अगर धोनी जमैका में वेस्ट इंडीज के खिलाफ पांचवें एकदिवसीय मैचों में नाबाद रहे तो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी सबसे ज़्यादा  नॉन-आउट पारियाँ होगी। वर्तमान में श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन के साथ पूर्व कप्तान का रिकॉर्ड साझा करते है धोनी ने 465 पारी में 119 बार नाबाद रहे है जबकि मुरलीधरन ने 328 पारियों में 119 बार नाबाद रहे है


बहोत समय पहले की बात नही है जब देशवासीयो का महेंद्र सिंह धोनी पर गहरा विश्वास था ख़ासकर उनकी चेज करने की क़ाबलियत पर ।  सिर्फ दो साल पहले तक  जब कभी भी टीम को रन बनाने की ज़रूरत पड़ी है धोनी ने कभी निराश नही किया है । 

हालांकि, पिछले कुछ महीनों में, आंकड़े पूर्व कप्तान का पक्ष में नहीं  हैं। चयनकर्ताओं ने उनका समर्थन किया है, लेकिन वास्तविकता में, कुछ दिन पहले एंटीगुआ में क्या हुआ था, जहां भारत ने 114 गेंदों में 54 रन के कष्टदायक प्रयास के बावजूद 189 रन का पीछा करने में विफल रहे, एक अलग तस्वीर दिखती है

धोनी अब पहले वाली फिनिशर नही रहे यह बात लोगो के मन में पहले भी आती थी पर अब ज़्यादा लोग इस बात को मानने लगे है  वह मध्यम क्रम में एंकर की भूमिका की मांग करते रहे हैं, जो उन्हें टीम प्रबंधन से मिला है। धोनी पहले जो बड़े शॉट्स खेलते थे वे अब नही देखने को मिलते है और वह अप्रभावी हो गये है। बल्ले से उसका रोमॅन्स और खेल मंद हो रहा है। कभी-कभी, ऐसा लगता है कि वह अपने करियर के अंत में हैं।

धोनी ने कुछ महीने पहले कहा था कि चैंपियंस ट्रॉफी के बाद उनके करियर पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा। 201 9 के विश्व कप के लिए धोनी के होने की संभावना नहीं है और उनका आगे देखने के लिए समय गया है। जितना अधिक वह अपने डिपार्चर में देरी करेंगे लोग उनसे उतने ही सवाल पूछेंगे सचिन । धोनी,  तेंदुलकर के  दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, जैसे तेंदुलकर नें अपने रिटाइयर्मेंट में देरी की थी शायद धोनी भी वही ग़लती कर  रहे है 

अंशुमान गायकवाड़ ने कहा, "कोई नहीं, उन्होंने प्रदर्शन नहीं किया है, लेकिन यह आसान जगह नहीं है, विशेषकर जब पंत जैसे खिलाड़ियों आसपास है। उनके बड़े शॉट्स दूरी नहीं जा रहे हैं, लेकिन अनुभव है कि वे नए लोगों के लिए आवश्यक हैं। वह निर्णय लेने में सक्षम  है। "उन्होंने टेस्ट में कर दिखाया है, क्या वह सीमित ओवरों में भी ऐसा करेंगे?

उन्होंने विराट कोहली को टेस्ट  में भी पहले कप्तान के रूप में सेट्ल होने का टाइम दिया ऋषभ पंत के के टीम में होने की वजह से बदलाव के लिए आवाज जोर से बढ़ रही है, धोनी खुद को एक ऐसी स्थिति में पा रहे है जहा जहा उनको रिटाइयर्मेंट के लिए चुनाव करना ही पड़ेगा 


Post a Comment Blogger Disqus

 
Top