0

लखनऊ। चुनावी वेला में यूपी की अखिलेश सरकार हर उस व्यक्ति पर मेहरबान है जो वोट की फसल कटवाने में सहायक हो। वो ऐसा कोई मौका नहीं छोड़ रही है जिससे वोट बैंक मजबूत होता हो लिहाजा सरकार नोटबंदी से परेशान होकर मरने वालों के परिजनों को आर्थिक सहायता दे रही है। इसी क्रम में  मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नोटबंदी के चलते जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को बतौर मुआवजा दो-दो लाख रुपये का चेक सौंपा। ये वे लोग थे, जिनकी मौत पैसों की किल्लत की वजह से अस्पताल में इलाज की कमी या फिर एटीएम की लाइनों में हो गई। सीएम अखिलेश ने साथ ही शहीद जवान सिनोद कुमार, हरिकेश प्रसाद, मुल्तान सिंह और हरवेंद्र सिंह के परिजनों को भी 25 लाख रुपये के चेक सौंपे। इसमें से पांच लाख रुपये शहीद के माता-पिता के लिए हैं। इसके अलावा अखिलेश यादव ने लखनऊ में लाठीचार्ज के दौरान मारे गए शिक्षक राम आशीष के परिजनों को 10 लाख रुपये का चेक सौंपा।
दरअसल नोटबंदी में हुई मौतों का आंकड़ा एक बड़ा चुनावी मुद्दा बन सकता है, ऐसे में अखिलेश यादव ने नोटबंदी में हुई मौत का मुआवजा बांटकर इसे सियासी तौर पर भुनाने की शुरूआत कर दी है। मुआवजा वितरण के दौरान मुख्यमंत्री ने नोटबंदी को लेकर केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि कैशलेस इकनॉमी का सपना अच्छे दिन के सपने जैसा है, जाने कब जमीन पर आएगा। 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top