0

पातालगंगा (महाराष्ट्र) । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने और सुधारों को आगे बढ़ाने का संकेत देते हुए आज कहा कि उनकी सरकार राष्ट्रहित में कठिन फैसले लेने से नहीं हिचकिचाएगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि नोटबंदी कुछ समय की परेशानी है। मोदी ने रायगढ़ में नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ सिक्योरिटीज मार्केक एनआईएसएम के नए कैंपस का उद्घाटन के मौके पर बोल रहे थे। मोदी ने विरोधियों को साफ संदेश दिया कि वह नोटबंदी पर वह झुकने वाले नहीं हैं। पिछले दिनों उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पूर्व प्रधानमंत्री मनमाोहन सिंह व पूर्व वित्त मंत्री पी चिदमबरम को आड़े हाथों लिया था और पूछा था कि क्या पूर्व प्रधानमंत्री पचास फीसद गरीबों का हवाला देकर अपना रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे हैं। कहने का मतलब यह कि आजादी के बाद सत्तर सालों में से साठ साल कांग्रेस ने ही राज किया है, फिर यह शिकायत किससे।
मोदी ने कहा कि उनकी सरकार और दीर्घकालिक नीतियों को लाएगी जो कि टिकाऊ और मजबूत होंगी। इससे उच्च आर्थिक वृद्धि दर को बनाये रखने में मदद मिलेगी। मोदी ने आज यहां पूंजी बाजार नियामक सेबी के नये शैक्षणिक और प्रशिक्षण संस्थान का उद्घाटन किया। यह संस्थान सेबी के नेशनल इंस्टिट्यूट आॅफ सिक्योरिटीज मार्केट्स (एनआईएसएम) के तहत काम करेगा।
प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार सोची समझी और मजबूत आर्थिक नीतियों पर चलती रहेगी और कोई भी फैसला अल्पकालिक राजनीतिक फायदे के लिए नहीं करेगी। मोदी ने स्वीकार किया कि नोटबंदी की वजह से जनता को कुछ समय के लिए परेशानी हुई है, पर उन्होंने कहा कि इससे लंबे समय में फायदा होगा।
मोदी ने कहा कि तीन वर्षों से भी कम समय में सरकार ने अर्थव्यवस्था में बदलाव लाने का काम किया है, राजकोषीय घाटे को कम किया है और विदेशी मुद्रा का भंडार बढ़ा है, साथ ही मुद्रास्फीति कम हुई है। सरकार ठोस और कारगर आर्थिक नीतियों को आगे बढ़ाना जारी रखेगी और अल्पकालिक राजनीतिक फायदे के लिए कोई निर्णय नहीं करेगी। हमारे आलोचकों ने भी हमारी तरक्की की रफ्तार को माना है। उन्होंने कहा कि देश की बेहतरी के लिए हम कड़े कदम उठाने से नहीं हिचकेंगे, नोटबंदी इसका उदाहरण है। ये थोड़े वक्त की परेशानी है, लेकिन इसके दूरगामी फायदे होंगे।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top