0

नई दिल्ली : वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पाकिस्तान को भारत के साथ असहज संबंधों के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान को यह आत्मविश्लेषण करना चाहिए कि दोनों पड़ोसी देशों के बीच संबंध तनावपूर्ण क्यों हैं।
जेटली ने यहां एचटी लीडरशिप सम्मिट में कहा, ‘यह एक गंभीर स्थिति है। जिस दिन से यह सरकार बनी है और उससे भी पहले से भारत ने पाकिस्तान के साथ संबंध सुधारने के लिए ईमानदारी से एक के बाद एक कदम उठाये हैं।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई पहल कीं, जिसमें गैर परंपरागत कदम भी शामिल हैं लेकिन पाकिस्तान की ओर से जवाब पठानकोट या उरी हमला था।
उन्होंने कहा, ‘जहां तक भारत..पाकिस्तान संबंधों की बात है, यह सामान्य नहीं हो सकता। यदि तनाव है, यह पाकिस्तान के लिए आत्मविश्लेषण करने की जरूरत है कि वास्तव में तनाव क्यों है।’ अमेरिका में सत्ता परिवर्तन के प्रभाव के बारे में पूछे जाने पर जेटली ने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध और मजबूत होने की उम्मीद है।
उन्होंने कहा, ‘मुझे इस बारे में जरा भी संदेह नहीं है कि अमेरिका के साथ भारत के संबंध उसी आधार पर जारी रहेंगे, जिस पर वह आगे बढ़ रहे थे और जिनमें दिन प्रति दिन परिपक्वता आ रही थी।’ उन्होंने कहा, ‘जहां तक अमेरिका का सवाल है यह एक असामान्य चुनाव था। जब विश्व के सबसे शक्तिशाली लोकतंत्रों में से एक ने एक निष्पक्ष चुनावी प्रक्रिया के जरिये कोई निर्णय किया है, हमें उस निर्णय को स्वीकार करना है।’

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top