0

मेरठ। नोटबंदी ने लोगों को परेशान कर रखा है, किसी की परेशानी यह है कि उसे पैसे नहीं मिल रहे है तो किसी परेशानी यह है कि वो रातोंरात अरबपति बन गये हैं। उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि इस पैसे का क्या करें। कहीं ऐसा तो नहीं होगा कि खाते में आया पैसा उसके लिए मुसीबत बन जाए। ऐसा ही कुछ मेरठ की महिला के साथ हुआ। एक महिला ने दावा किया है कि उसके जनधन खाते में अचानक से करीब 100 करोड़ रुपये जमा हो गए। इसकी जानकारी से महिला समेत उसका पूरा परिवार सकते में आ गया कि इतनी बड़ी रकम कहां से आई। शीतल मेरठ के माधवपुरम सेक्टर-1 में किराये के मकान में रहती है। वह ट्रॉफी बनाने की एक फैक्ट्री में पांच हार रुपये प्रतिमाह के वेतन पर काम करती है जबकि उसके पति जिलेदार सिंह यादव परतापुर के गगोल में ट्रांसफार्मर बनाने वाली कनोहर इलेक्ट्रिकल्स में प्रोडक्शन एग्जीक्यूटिव हैं। शीतल के मुताबिक, वर्ष-2015 में उन्होंने ब्रह्मपुरी स्थित सहायक केंद्र के जरिये एसबीआई शारदा रोड में जनधन योजना के तहत खाता खुलवाया था। नोटबंदी के बाद जनधन खातों में अचानक आ रहे रुपयों की जानकारी पर शीतल ने 18 दिसंबर को आईसीआईसीआई के एटीएम पर जाकर अपने खाते का बैलेंस देखा। मिनी स्टेटमेंट में 99 करोड़ 99 लाख 99 हजार 394 रुपये दर्शाए गए। अपने खाते में इतने रुपये देख उसके होश उड़ गए। शीतल ने बताया कि वह अब तक चार अलग-अलग एटीएम से स्लिप निकालकर बैलेंस चेक कर चुकी हैं। सभी में यही रकम दशार्यी जा रही है जिससे उसकी रातों की नींद उड़ गई है। उसे समझ में नहीं आ रहा है कि वह क्या करे और किसको बताये कि उसके गले कोई मुसीबत न आये। महिला और उसके पति ने बैंक और स्थानीय एजेंसियों को बताने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ई-मेल के जरिये सूचना देकर मदद की गुहार लगाई है। 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top