0

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी में जारी अंदरुनी कलह पर पार्टी के दिग्गज नेता और नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा है कि चुनाव आनेवाले हैं और पूरे परिवार को एक रहना चाहिए। उन्होंने साफ किया कि नेताजी (मुलायम सिंह यादव) के फैसले को पलटने की हैसियत किसी में नहीं है। उनका फैसला अंतिम फैसला होता है।
 शिवपाल यादव ने कहा पद से कोई व्यक्ति छोटा या बड़ा नहीं होता है बल्कि काम और मेहनत से होता है। मुझे इतनी जल्दी यूपी का अध्यक्ष बनाया जाएगा, इसका अंदाजा नहीं था। सबको जोड़ने से संगठन मजबूत होगा। इसलिए चुनाव को देखते हमें एकजुट होकर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि नेताजी ने जो मुझे जिम्मेदारी सौंपी है, वह मुझे मंजूर है। नेताजी के फैसले को बदलने की हैसियत किसी में नहीं है। पार्टी में कौन रहेगा या नहीं, फैसला नेताजी करेंगे। मैं हर कुर्बानी और हर त्याग के लिए तैयार हूं। जो भी जिम्मेदारी मिलेगी उसे निभाउंगा। मुझे हर कुर्बानी हर त्याग पार्टी के लिए कबूल है। मेरे पास संगठन की जिम्मेदारी अहम है और मेरे लिए विभाग कोई जरूरी नहीं।  
 शिवपाल ने कहा कि अगर अखिलेश सिंह यादव (यूपी के मुख्यमंत्री) नेताजी की पसंद है तो अखिलेश मुझे स्वीकार है। पार्टी में सभी तरह के लोग है और सबके एक जैसे विचार नहीं है। अमर सिंह के मुद्दे पर उन्होने कहा कि उन्हें नेताजी पार्टी में कुछ सोमझकर लाए हैं। अमर सिंह को लाने का फैसला नेताजी का था । हाल में सपा मुखिया ने एक अप्रत्याशित फैसला करते हुए वरिष्ठ काबीना मंत्री शिवपाल यादव को सपा का प्रान्तीय प्रभारी बनाया था।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top