0
फिल्म 'सुल्तान' की रिलीज से ठीक एक दिन पहले सुपरस्टार सलमान खान के लिए बुरी खबर आई है. 'दबंग' सलमान की मुसीबतें बढ़ सकती हैं. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को 2002 के चर्चित 'हिट एंड रन' मामले में महाराष्ट्र सरकार की उस याचिका को सुनवाई के लिए मंजूरी दे दी, जिसमें सलमान को बरी करने के फैसले को चुनौती दी गई है. न्यायमूर्ति जगदीश सिंह खेहर की पीठ ने मामले में फास्ट-ट्रैक सुनवाई करने से भी इनकार कर दिया है. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान महाराष्ट्र सरकार ने कहा था कि वारदात के समय सलमान खान केवल शराब के नशे में ही नहीं थे, बल्कि अपनी एसयूवी गाड़ी भी वही चला रहे थे. बंबई हाईकोर्ट के निर्णय को रद्द करने का अनुरोध किया था. महाराष्ट्र सरकार की ओर से अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने हाईकोर्ट के निर्णय को विकृत, अनुचित और पूरी तरह न्याय का उपहास करने वाला करार दिया था. उन्होंने कहा कि सलमान खान ही गाड़ी चला रहे थे. गाड़ी चलाने वाले व्यक्ति के रूप में उनके ड्राइवर को पेश करने का तथ्य घटना के 13 साल बाद सोच-विचार कर लाया गया था. रोहतगी ने कहा था कि सलमान के अलावा इस गाड़ी में उनके साथ उनका गायक दोस्त कमाल खान और एक सिपाही था. उनके बयानों से स्पष्ट है कि वही गाड़ी चला रहे थे. सलमान के खून के नमूने में शराब की मात्रा स्वीकृत सीमा से अधिक मिली थी. ये नमूने 12 घंटे बाद लिए गए थे. 2002 में उनके पास वाहन चलाने का लाइसेंस भी नहीं था. ट्रायल कोर्ट ने सलमान को हिट एंड रन मामले में दोषी करार देते हुए पांच साल कैद की सजा सुनाई थी. इसके बाद सलमान ने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसके बाद पहले उनको जमानत दे दी गई और फिर बरी कर दिया गया. इसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके इस मामले में सुनवाई की अपील की थी. आरोप है कि 28 सितंबर 2002 की रात बांद्रा में एक बेकरी के बाहर सो रहे पांच लोगों पर सलमान खान की लैंड क्रूजर कार चढ़ा दी गई थी. इस मामले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी, जबकि चार अन्य घायल हो गए थे. कहा जाता है कि उस समय सलमान वहां से निकल लिए थे. उन पर लापरवाही से गाड़ी चलाने और गैर-इरादतन हत्या का मामला भी चलाया गया था.

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top