0
नई दिल्ली4/7/2016 : बांग्लादेश में हुए आतंकी हमले में मारी गई भारतीय लड़की तारिषी जैन का शव दिल्ली पहुंच गया है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पीयूष गोयल एयरपोर्ट पहुंचकर तारिषी को श्रद्धांजलि दी और उनके परिवार को सांत्वना दी. आज दिल्ली से सटे गुड़गांव में तारिषी का अंतिम संस्कार होगा. तारुषि जैन शुक्रवार रात ढाका में आतंकियों की गोली का शिकार हो गई थी. अमेरिका में पढाई कर रही तारुषि इन दिनों छुट्टियां मनाने ढाका गई हुई थी. उसके पिता का ढाका में कपड़े का कारोबार है.
तो वहीं बांग्लादेश में भारतीय उच्चायुक्त हर्ष वर्धन श्रींगला के मुताबिक ढाका हमले के दौरान एक भारतीय नागरिक बाल बाल बच गया. खबरों की मानें तो हमले के वक्त वह शख्स रेस्टोरेंट से निकलने में कामयाब रहा.

वहीँ सूत्रों से मिल रही खबरों के मुताबिक ढाका के रेस्तरां में हुए हमले में एक ही भारतीय मारे जाने की खबर से आतंकियों के आका नाराज हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार बांग्लादेश में आतंकी और भारतीयों को अपना निशाना बना सकते हैं. इस खबर के सामने आने के बाद भारत ने वहां अपने लोगों को सुरक्षा देने के लिए कमांडो भेजने का मन बनाया है. आपको बता दें कि गत शुक्रवार को बांग्लादेश की राजधानी ढाका में एक रेस्तरां को आतंकियों ने निशाना बनाया और वहां मौजूद 20 विदेशी लोगों को बड़ी निर्ममता के साथ मौत के घाट उतार दिया. हमले के सरगना का पता लगाने में अमेरिका और जापान ने बांग्लादेश को मदद की पेशकश की है, वहीं पूरी दुनिया ने एक स्वर में इस हिंसक घटना की निंदा की है. इस हमले के बाद सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को गिरफ्तार किया है जिससे बांग्लादेशी खुफिया अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं.


वहीं दूसरी ओर खबर है कि बांग्लादेश की राजधानी ढाका में हुए हमले में सत्तारुढ अवामी लीग के एक वरिष्ठ नेता के बेटे का भी हाथ हो सकता है. बीडी न्यूज' की खबर के अनुसार, पार्टी की ढाका शाखा के नेता और बांग्लादेश ओलंपिक एसोसिएशन के उपमहासचिव एस. एम. इम्तियाज खान बाबुल का बेटा रोहन इब्ने इम्तियाज की पहचान हमलावरों में से एक रुप में हुई है. उनकी पहचान पार्टी के ही एक अन्य नेता ने की है. बाबुल द्वारा पुलिस में दी गयी शिकायत के अनुसार, 20 वर्षीय रोहन बीआरएसी विश्वविद्यालय का छात्र था. ऐसा कहा जा रहा है कि बाबुल 25 दिसंबर, 2015 को अपनी पत्नी का इलाज कराने भारत गए, और 30 दिसंबर को ढाका से उन्हें सूचना दी गयी कि रोहन घर वापस नहीं लौटा है.


इधर, एसआईटीई ने पांच हमलावरों की पहचान अबु उमर, अबु सलाम, अबु रहीम, अबु मुस्लिम और अबु मुहरिब अल-बंगाली के रुप में की है. पुलिस ने जो नाम बताए हैं, वे आकाश, बिकास, डॉन, बधोन और रिपन हैं. पुलिस महानिरीक्षक ए. के. एम. शहीदुल हक ने कहा कि पांच हमलावर आतंकवादी संगठन जमातुल मुजाहिद्दीन बांग्लादेश के सदस्य थे. उन्होंने दावा किया कि पुलिस को कुछ वक्त से इनकी तलाश थी.

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top