0
नयी दिल्ली, 26 जुलाई  : 'डॉक्टर हॉरर' के नाम से चर्चित गुडग़ांव किडनी कांड का कथित प्रमुख आरोपी अमित कुमार एक बार फिर गिरफ्तार हो गया है. इस बार उसे गुजरात पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इसकी पुष्टि गुजरात पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने की है. अमित कुमार को कल गुजरात के आणंद जिले में मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा. अमित कुमार का नाम 2008 में गुडग़ांव किडनी कांड में सामने आया था। अमित कुमार को सीबीआई ने 7 फरवरी 2008 को नेपाल से गिरफ्तार किया था। तब इस सनसनीखेज किडनी रैकेट का खुलासा हुआ था और कई लोग किडनी प्रत्यर्पण का रैकेट चलाते पकड़े गए थे। अमित कुमार और अन्य लोग गरीब मरीजों की किडनी निकालकर अमीर जरूरतमंदों को ऊंचे दामों पर बेच दिया करते थे। इनके ग्राहकों में से कई विदेशी जरूरतमंद मरीज भी थे। 25 जनवरी 2008 को पुलिस ने
अमरीका में बसे एक भारतीय दंपत्ति व ग्रीस के तीन नागरिकों को भी अमित कुमार से किडनी खरीदने के शक में गिरफ्तार किया था. तब पुलिस ने दावा किया था कि अमित कुमार करीब 600 किडनी बेचने का आरोपी था. जिसमें कम से कम दो अस्पतालों के शामिल होने की आशंका जतायी गयी थी. कुमार के भाई जीवन कुमार को भी पुलिस ने पकड़ा था पर बाद में पुलिस पर उसे 20 लाख रुपये लेकर छोड़ देने का आरोप लगा था
'डॉक्टर हॉरर' यानी अमित कुमार के मामले की जांच के लिए इंडियन मेडिकल एसोसियेशन ने सीबीआई को पत्र लिखा और सीबीआई ने इसकी जांच की तो इसमें पता चला कि वह मुख्यतया पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गरीबों से किडनी लेकर देश और विदेश के अमीर मरीजों को किडनी बेचकर अकूत धन कमा रहा था. पता चला कि अमित कुमार ने इस तरह अर्जित अवैध कमाई को भारत के अलावा कई देशों खासकर ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में लगा रखा है। सीबीआई ने अमित कुमार की सनबरी (मेलबर्न, ऑस्ट्रेलिया) स्थित करीब 4.35 करोड़ रुपए की संपत्ति अटैच करवाने में प्रवर्तन निदेशालय ने सफलता हासिल की थी। प्रवर्तन निदेशालय अमित कुमार और उसके सहयोगियों की करीब 30 करोड़ रुपए की चल-अचल संपत्ति अटैच की थी।

अमित कुमार समेत पांच आरोपियों को 13 मार्च 2013 में सीबीआई की एक विशेष अदालत ने देश के गरीबों से औने-पौने दामों में उनकी किडनी लेकर बड़ी रकम में बेचने के कथित कारनामे के लिए दोषी ठहराया था और सात साल के सश्रम कारावास के अलावा 60 लाख रूपये का जुर्माना भी लगाया था. लेकिन बाद में उन्हें इसलिए छोड़ना पड़ा क्योंकि सीबीआई उसके गुनाहों का सबूत पेश नहीं कर पायी.

हाल ही में यह खबर आयी थी कि करोड़ों रुपए के किडनी प्रत्यारोपण रैकेट का कथित कर्ताधर्ता डॉक्टर अमित कुमार देश छोड़कर कनाडा भाग गया है। कहा जा रहा था कि पिछले सप्ताह पुलिस का छापा पड़ने से पहले ही अमित कुमार कनाडा भाग गया है।
है। लेकिन आज उसकी गिर्फत्री के बाद नयू ऑब्ज़र्वर पोस्ट से बातचीत में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने अमित कुमार की गिरफ्तारी की पुष्टि की. उक्त अधिकारी ने कहा कि हम लंबे समय से उस पर निगाह रख रहे थे.


भारतीय पुलिस ने घोषणा की थी कि कुमार को पकड़ने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रयास किए जाएँगे। हरियाणा पुलिस ने इस आशंका से कुमार को पकड़ने के लिए 'रेड कॉर्नर' इंटरपोल नोटिस जारी करने की माँग की थी कि वह शायद देश छोड़कर भाग चुका है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top