0
आज फिल्म इंडस्ट्री में ज्यादातर अभिनेत्रियां केवल अंग प्रदर्शन के आधार पर फिल्मों में आती है और हिट भी होती है। लेकिन ज्यादातर लम्बे समय तक इंडस्ट्री में टिक नहीं पाती है। लेकिन बहुत सी अभिनेत्रियां फिल्म इंडस्ट्री में आकर अपना अपना एक अलग मुकाम बनाया है।खास करके क्लासिकल डांसर के तौर पर जैसेकि मधुबाला, वहीदा रहमान, वैजन्तीमाला, हेमा मालिनी, रेखा ,श्रीदेवी,माधुरी दीक्षित,ऐश्वर्या राय बच्चन इत्यादि ने।ऐसे ही देहरादून से आई अभिनेत्री समीक्षा भटनागर है, जोकि निर्माता 'ऍफ़आरवी बिग बिज़नेस एंटरटेनमेंट प्राईवेट लिमिटेड' के बैनर तले रिलीज़ होने वाली रोमांटिक कॉमेडी फिल्म,'लव के फंडे' में बतौर नायिका आ रही है। इसके निर्माता फ़ाएज़ अनवार और प्रेम प्रकाश गुप्ता है और इसके लेखक- निर्देशक इन्दरवेश योगी है।समीक्षा भटनागर ने प्रयाग संगीत समिति, इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) से कत्थक डांस में पीएचडी किया है।और धारावाहिक 'वीरा',' अड़ोस-पड़ोस' और 'जाने क्या होगा रामा रे' में अभिनय किया है। इसके अलावा मधुर भंडारकर की फिल्म' कलेंडर गर्ल्स' में एक केमिओ की भूमिका निभाई थी।बतौर मुख्या अभिनेत्री फिल्म,'लव के फंडे' इनकी पहली फिल्म है।वैसे इस फिल्म में चार मुख्या नायिकाएं है।यह फिल्म जुलाई में रिलीज़ होने जा रही है। उसी सिलसिले में समीक्षा भटनागर से की गई भेटवार्ता के प्रमुख अंश प्रस्तुत कर रहे है :-
आपने फिल्म लाइन में आने के पहले क्या-क्या किया है और क्या आपके परिवार का भी कोई फिल्म लाइन में है?
फिल्म लाइन में मेरे परिवार का कोई नहीं है। मैंने इंग्लिश में बी ए किया है। उसके बाद इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) से कत्थक डांस में पीएचडी किया। और दिल्ली में डांस क्लासेस चलाती थी और स्कूलों में उनके प्रोग्राम में की कोरिओग्रफी करती थी। क्युकि मेरी माँ कुसुम भटनागर भी क्लासिकल डांसर है और उनकी इच्छा थी कि मैं भी क्लासिकल डांसर बनूँ। इसलिए मैंने उनकी बात मानकर क्लासिकल डांसर बनी। लेकिन मेरी इच्छा थी कि मैं फिल्म लाइन में अपना कैरियर बनाऊँ। क्युकि दिल्ली में मुझे कई मॉडलिंग के ऑफर मिले थे, जिससे करने के बाद, मैंने फिल्म लाइन में काम करने के लिए मुंबई आ गयी। और यहां आकर धारावाहिक 'वीरा',' अड़ोस-पड़ोस' और 'जाने क्या होगा रामा रे' इत्यादि किया और धुर भंडारकर की फिल्म' कलेंडर गर्ल्स' में एक केमिओ की भूमिका निभाई। और अब बतौर अभिनेत्री फिल्म,'लव के फंडे' पहली फिल्म कर रही हूँ ।
फिल्म,'लव के फंडे' में आपका क्या रोल है?
फिल्म में जस्सी नामक एक ग्लैमरस लड़की का रोल किया है,जो मैरेड है और एक कंपनी में काम करती है। जो आधुनिक विचार रखती है और प्रैक्टिकल सोचती है। बाहर कोई लफड़ा नहीं करती  है।
इसमें क्या आपके क्लासिकल डांस का स्कोप भी है या कोई क्लासिकल डांस किया है ?
नहीं। ऐसा जरुरी नहीं कि आपको एक है फिल्म में सबकुछ करने को मिले। इसमें को क्लासिकल डांस नहीं। इसमें फन,मस्ती,इमोशन और रोमांस है। एक सफल फिल्म के सारा मसाला इस फिल्म में है।
आप फिल्म, टीवी या क्लासिकल डांस किसमें अपना कैरियर बनाना चाहती है ?
आज की तारीख में आप यह सोच नहीं सकते है। यह इसपर निर्भर करता है कि आपको कब और कैसा मौका मिलता है ? क्लासिकल डांस की वजह से फेस इक्सपेरशन, बॉडी लैंग्वेज इत्यादि में मुझे काफी फायदा हुआ। इसके कारण अच्छी एक्टिंग करती हूँ। मुझे जो अच्छी ऑफर मिलती है,मैं उसे स्वीकार कर लेती हूँ।
आजकल फिल्मों में ज्यादातर अभिनेत्रियों से फिल्मों में अंगप्रदर्शन (एक्सपोज) कराया जाता है। क्या आपको इस तरह का ऑफर मिले तो फिल्म में एक्सपोज करेंगी?
यह निर्भर करता है कि फिल्म में एक्सपोज की ज़रूरत कहाँ तक है? हाँ। यदि वैलिड है तो डेफिनेटली मैं करुँगी। जहाँ तक मेरी लिमिट है और मैं कम्फर्टेबल हूँ। बेवज़ह मैं फिल्म में एक्सपोज नहीं करुँगी।
भविष्य की क्या योजनाएं है ?
ज्यादा सोचने से कुछ नहीं होता है। जो भगवान् देगा, वह सर आँखों पर। सबकुछ भगवान् के हाँथ में है। मैं चाहती हूँ ,लोग फिल्म,'लव के फंडे' को देखे और पसंद करे। और अपनी राय दे कि उनको फिल्म कैसी लगी ?


Post a Comment Blogger Disqus

 
Top