0
नई दिल्ली, 09 जुलाई, 2016। आज के युवा वर्ग पर बनी संगीतमय रोमांटिक कॉमेडी फिल्म,'लव के फंडे' का निर्माण ऍफ़आरवी बिग बिज़नेस एंटरटेनमेंट प्राईवेट लिमिटेड' के बैनर तले किया गया है। इसके निर्माता फ़ाएज़ अनवार और प्रेम प्रकाश गुप्ता है और इसके लेखक- निर्देशक इन्दरवेश योगी है। इस फिल्म के संगीतकार प्रकाश प्रभाकर और फरजान फ़ाएज़ है। यह फिल्म 22 जुलाई 2016 को रिलीज़ होगी।
 यह आजकल के युथ की कहानी है।इस फिल्म के हर कैरेक्टर से कॉलेज के लड़के लड़कियां अपने आप को आईडेंटीफाई करेंगे। यह फिल्म आजकल के युवा वर्ग के कारनामों का आइना है। फिल्म में काफी बोल्ड सीन और डायलॉग है। शायद आज के युवा वर्ग के कारनामे सेंसर बोर्ड को अच्छे  नहीं लगते,इसलिए फिल्म 'लव के फंडे' को सेंसर बोर्ड द्वारा '' सर्टिफिकेट दिया गया है।यानि यह एक एडल्ट फिल्म है। इसे 17 साल से कम उम्र के लोग नहीं देख सकते है। वैसे फिल्म के सारे गाने लोगों की जुबान पर आ चुके हैं और इस फिल्म की पब्लिसिटी एक बड़ी फिल्म की तरह की जा रही है। जबकि इसमें शालीन भनोट,ऋशांक तिवारी,रीतिका गुलाटी,सूफी गुलाटी,हर्षवर्धन जोशी,समीक्षा भटनागर, राहुल सूरी,पूजा बनर्जी जैसे नए युवा और टैलेंटेड कलाकारों को मौक़ा दिया गया है।
लेकिन निर्माता फ़ाएज़ अनवार का कहना है," फिल्म ज्यादातर कहानी, निर्देशन,एडिटिंग,संगीत इत्यादि सभी चीजों के दम पर हिट होती है, ना सिर्फ बड़े कलाकारों की वजह से नहीं। बड़े कलाकारों की वजह से केवल फिल्म को ओपनिंग अच्छी मिल सकती है। और हमारी फिल्म की मेकिंग और पब्लिसिटी बड़ी फिल्म की तरह ही की गयी है। फिल्म को '' सर्टिफिकेट दिया गया है, क्युकि इसमें कुछ बोल्ड सीन और कुछ बोल्ड डायलॉग हैं। ऐसा सेंसर बोर्ड का कहना है। अब फिल्म का फैसला पब्लिक करेगी।"


Post a Comment Blogger Disqus

 
Top