0
नई दिल्ली 03/7/ 2016 । पंजाब के मलेरकोटला में एक धार्मिक पुस्तक की बेअदबी के मामले में पुलिस ने आम आदमी पार्टी के विधायक पर मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले में गिरफ्तार शख्स ने खुलासा किया है कि उसे विधायक ने इस काम के लिए 1 करोड़ रुपए देने का वादा किया था। पुलिस अब वारंट लेकर विधायक से पूछताछ कर सकती है।
छुट्टी के कारण एएपी विधायक नरेश यादव की गिरफ्तारी टल गई। रविवार होने की वजह से अदालत बंद हैं और पुलिस को वारंट नहीं मिला। सोमवार को अदालत से वारंट लेकर नरेश यादव की गिरफ्तारी हो सकती है।
आप विधायक नरेश यादव ने कहा कि यह गलत आरोप है। जब पूरे देश में हिंदू, मुसलमान, सिख और ईसाई हमें समर्थन दे रहे हैं और जब हम चुनाव जीत रहे हैं तो फिर मैं ऐसा क्यों करूंगा? इस मामले में मेरी कोई संलिप्तता नहीं है। अगर कोई सबूत है तो मुझे फांसी दे दो। यह साजिश है और इस मामले से मेरा कोई लेनादेना नहीं है। पूरा देश जानता है कि यह हरकत सिर्फ एक पार्टी कर सकती है।
आप ने इस मुद्दे को लेकर अकाली दल-भाजपा गठबंधन पर निशाना साधा। पार्टी नेता आशुतोष ने कहा कि यह भाजपा की बौखलाहट को दिखाता है कि क्योंकि आप पंजाब के चुनाव में उसका सूपड़ा साफ करने का जा रही है।
वहीं आप नेता संजय सिंह ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि कुरान की बेअदबी की जो घटना हुई उस घटना में एएपी के एमएलए नरेश यादव का हाथ है, इससे ज्यादा घिनौनी, झूठी बात नहीं हो सकती। जो पार्टी धर्मनिरपेक्षता की बात करती है, देशभक्ति की बात करती है, उस पर इस तरह के आरोप लगाये जा रहे हैं। पंजाब की जनता एएपी के साथ है। इसी बौखलाहट के कारण बीजेपी और अकाली दल साजिश कर रहे हैं। पूरा देश जानता है कि 2002 के दंगे कराने वाले लोग कौन हैं। मुजफ्फरनगर में दंगे कराने वाले लोग कौन हैं। अखलाक की हत्या कराने वाले लोग कौन हैं।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक आप विधायक नरेश यादव और मलेरकोटला कांड के आरोपी विजय की 18,19 और 23 जून को फोन पर बातचीत हुई थी। 24 जून को विजय दिल्ली में नरेश से सुबह 9 बजे मिला था पंजाब पुलिस ने मोबाइल लोकेशन चेक की।
ये है मामला
पिछले शुक्रवार को मलेरकोटला में अज्ञात लोगों ने धार्मिक किताब के पन्ने फाड़ कर फेंक दिये थे। इस घटना से पूरे इलाके में तनाव फैल गया था। समुदाय विशेष की भारी भीड़ ने स्थानीय अकाली दल विधायक के घर पर तोड़-फोड़ कर दी थी, जिसके बाद हालात को नियंत्रण में करने के लिये पुलिस को गोलियां भी चलानी पड़ी थी। बाद में इस बेअदबी मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था।
अब इन गिरफ्तार लोगों में से एक मुख्य साजिशकर्ता विजय ने आम आदमी पार्टी के दिल्ली के महरौली से विधायक नरेश यादव का नाम पूरी साजिश रचने के लिए लिया है। पंजाब पुलिस को रिमांड के दौरान दिए बयान में कहा है कि इसी विधायक के कहने पर उसने मुस्लिम बहुल मलेरकोटला के इलाके में तनाव फैलाने के लिये किताब के पन्ने फाड़ने की साजिश रची थी।
संगरुर के एसएसपी के मुताबिक इसके लिये 24 जून को विजय अपने साथियों के साथ दिल्ली में नरेश यादव के घर से ही पंजाब के मलेरकोटला आया था। नरेश यादव ने इस काम के बदले विजय को एक करोड़ रुपये देने का वादा किया था।
विधायक नरेश यादव ये करवा कर पंजाब में हालात तनावपूर्ण करना चाहता था, ताकि आने वाले विधानसभा चुनाव में इसका आम आदमी पार्टी को फायदा मिल सके। संगरूर के एसएसपी प्रीतपाल सिंह ठिंड के मुताबिक आम आदमी पार्टी के दिल्ली के विधायक नरेश यादव को कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट लेने के बाद जल्द गिरफ्तार किया जा सकता है।
एसएसपी ने बताया कि विजय दिल्ली में नरेश यादव विधायक के घर से ही यहां आया था। उसे कहा गया था कि यहां आम आदमी की सरकार बनानी है। हमने नरेश यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया है। कोर्ट से वारंट लेकर पूछताछ करेंगे। फिर चाहे संजय सिंह का नाम आए या केजरीवाल का नाम आए, जिसका भी नाम आए उसके खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई की जाएगी।

वहीं आप विधायक नरेश यादव का कहना है कि ये मेरे खिलाफ साजिश है। हमारे साथ सभी हिन्दू, मुसलमान और सिख हैं। उसी से घबराकर ये साजिश कर रहे हैं। भाजपा-अकाली इस साजिश के पीछे हो सकते हैं। मेरे खिलाफ कोई सबूत हो तो दीजिए। आरोप साबित हों तो फांसी चढ़ा दें।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top