0
नई दिल्ली, 09 जुलाई, 2016। राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने कहा कि देश के मशहूर कानूनविद्, अर्थशास्त्राी श्री नानी पालकीवाला न केवल एक व्यक्ति बल्कि एक संस्थान थे जिन्होने देश की भावी पीढ़ी को आधुनिक कानून एवं अर्थशास्त्रा के विभिन्न आयामों से परिचित करवाया।
श्री नानी पालकीवाला के बारे में यह बात राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को डॉ. धमेन्द्र भंडारी द्वारा लिखित श्री पालकीवाला के जीवन वृत्तांत की प्रति प्राप्त करते हुए कही।
राजस्थान विश्वविद्यालय की पूर्व एशोशियेट प्रोफेसर डॉ. धर्मेन्द्र भंडारी द्वारा लिखित श्री पालकीवाला की जीवनी ‘‘नानी पालकीवाला- गोडस गिफ्ट टू इंडिया (बायोग्राफी बाई ए फ्रेंड)’’ की प्रति शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में श्री मुखर्जी को भेंट की।
जीवनी के लेखन में श्री भंडारी द्वारा किये गए गहन अनुसंधान कार्य की प्रशंसा करते हुए श्री मुखर्जी ने कहा कि यह किताब भावी पीढ़ी के लिए मार्गदर्शन का कार्य करेगी।
श्री मुखर्जी ने श्री पालकीवाला के साथ अपने अनुभवों को बताते हुए कहा कि वे स्वभाव से सरल एवं सभी के लिए सम्यंक एवं सम्मान पूर्ण विचार रखने वाले महान विशेषज्ञ थे। उन्हाने कहा कि पालकीवाला न सिर्फ कानूनविद् बल्कि महान् अर्थशास्त्राी भी थे।
राष्ट्रपति ने कहा कि श्री पालकीवाला द्वारा बजट पर दिए गए भाषणों एवं टिप्पणियां देश के लिए एक महत्पूर्ण सम्पति है। उन्होने कहा कि श्री पालकीवाला के बाद इस भाषण को किसी ने उनके बाद आगे नहीं बढ़ाया ! जो एक चिंता का विषय है। श्री मुखर्जी ने अपने संस्मरणों को याद करते हुए कहा कि मेरे बजट पेश करने के बाद श्री पालकीवाला द्वारा जो महत्वपूर्ण टिप्पणीयां की जाती थी ! वह सच में काबिले तारीफ हुआ करती थी और उन्हें मैं स्वंय लिखता था की आपके विचारों से मैं सहमत हूँ। ऐसे निर्भीक श्री पालकीवाला की छवि किसी अन्य में पाना काफी कठिन है। 
जीवनी की प्रति भेंट करने के बाद लेखक एवं प्रसिद्ध अर्थशास्त्राी श्री धर्मेन्द्र भंडारी ने कहा कि राष्ट्रपति श्री मुखर्जी एवं नानी पालकीवाला राजनीति एवं नीतिगत मुद्दों पर भिन्न मत रखने के बावजूद एक दूसरे का बहुत सम्मान करते थे। श्री पालकीवाला के विचारों के अनुरूप एवं उनकी दिली इच्छा के अनुसार श्री मुखर्जी ने देश के नागरिकों के अधिकारों के संरक्षण एवं सुरक्षा को काफी तरजीह दी है।
श्री भंडारी ने कहा कि ‘‘नानी पालकीवाला- गोडस गिफ्ट टू इंडिया (बायोग्राफी बाई ए फ्रेंड)’’ श्री पालकीवाला का जीवन दर्शन है जिसमें उनके जीवन के विभिन्न पहलुओं को काफी सजगता से उकेरा है। किताब में  श्री पालकीवाला के बजट भाषणों के साथ-साथ उनके द्वारा श्री रामगोपालाचारी, श्रीमती इंदिरा गांधी, श्री रतन टाटा, श्री कुमार मंगलम् बिरला इत्यादि महान हस्तियों के लिखे महत्वपूर्ण खतों को भी शामिल किया गया है। 
श्री भंडारी ने बताया कि श्री पालकीवाला द्वारा बैंकों के राष्ट्रीयकरण, मूल अधिकारों के संरक्षण साथ-साथ आपातकाल में प्रेस की स्वतंत्राता जैसे चर्चित मुकदमों एवं देश की अर्थव्यवस्था एवं राजनीति को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण मुद्दों को बड़ी सावधानी के साथ लडा। उन्होने कहा कि श्री पालकीवाला के महत्वपूर्ण योगदान देश हमेशा याद रखेगा।
उल्लेखनीय है कि श्री धमेन्द्र भंडारी द्वारा श्री पालकीवाला के जीवन वृत्तांत के लेखन से पूर्व में महशूर कार्टूनस्टि श्री आर.के. लक्ष्मण का जीवन वृत्तांत ‘‘द अनकॉमन मेन’’ भी लिख चुके है।


Post a Comment Blogger Disqus

 
Top