0
नई दिल्ली। पूर्व केन्द्रीय मंत्री डा. नजमा हेपतुल्ला ने प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किये गये स्टार्टअप कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आज के माहौल और हालात को ध्यान मे रखते हुए देश की शिक्षा नीति में व्यवहारिक दृष्टिकोण अपना कर प्रभावी बदलाव लाने की जरूरत पर बल दिया है।
डा. हेपतुल्ला आज यहां इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के मुख्य सभागार में भारत निर्माण (एन.जी.ओ.) द्वारा आयोजित भारत निर्माण में नई पीढ़ी की भूमिकाविषय पर राष्ट्रीय सम्मेलन को  मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री श्री मोदी द्वारा पिछले दो वर्षों में किये गये कार्यों की बदोलत भारत को आज दुनिया में इज्जत और उम्मीद की नजर से देखा जा रहा है। उन्होंने देश के युवाओं का आह्वान किया कि प्रधान मंत्री श्री मोदी ने देश में जो उम्मीद जगायी है, उस पर वे खरा उतर कर दिखायें।
डा. हेपतुल्ला ने कहा कि जिन्दगी में हर किसी को उसके द्वारा किये गये अच्छे कार्यों के लिए शाबासी की जरूरत होती है। इस शाबासी से उनकी जिन्दगी में और अधिक अच्छे कार्य करने के लिए एक नये उत्साह का संचार होता है और देश आगे बढ़ता है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में भारत निर्माण (एन.जी.ओ.) अच्छा काम करके देश के निर्माण में अहम भूमिका निभा रहा है।
इस अवसर पर डा. हेपतुल्ला ने र्स्टाटअप कार्यक्रम के तहत सफल उद्यमियों को इंडियन इंटरप्रीन्योर ऐक्सिलेंस अवार्डस-2016 (बेस्ट स्टार्टअप अवाडर्स) प्रदान किये। अवाडर््स प्राप्त करने वालों में श्री सुजीत पानीग्रही, डा. नवनीत कुमार, आक्क्षी खंडेलवाल भूटानी, डा पूजा वोहरा, श्री अजय पोद्दार, श्री हिमादिृश सुवान, डा. मोनिषा कपूर, श्री सार्थक बक्शी, श्री अनुराग चैहान, सुश्री प्रियंका कृष्णनन, श्री डी. एल. एन. शास्त्री, श्री दीपक शर्मा, श्रीमती मन दुआ, डा. नितिन शर्मा, श्री हरप्रीत बांगा, श्री नयन जैन और श्रीमती रजनी राठी के नाम उल्लेखनीय हैं।
इस अवसर पर श्री पी.एन.विजय, डा. राजेश शर्मा, श्रीमती सुभा राजन, डा. रीता बक्शी, श्रीमती रिचा अनिरूद्ध और श्री जयन्त मुनी ने अपने कैरियर के अनुभवों को साझा करते हुए युवा उद्यमियों को र्स्टाटअप कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए उपयोगी सुझाव दिये। इन जाने-माने वक्ताओं ने सफलता पाने के लिए मजबूत संकल्प शक्ति, बाजार का व्यापक अनुसंधान करने तथा अपने कर्मचारियों को नशे की लत से दूर रखने जैसे कारगर सुझाव दिये।
इस मौके पर भारत निर्माण (एन.जी.ओ.) के संयोजक श्री रवींद्र सी भंडारी ने कहा कि पिछले वर्ष स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश में शुरू किये गये स्टार्टअप कार्यक्रम के तहत र्स्टाटअप उपक्रमों के लिए बैंक फाइनेंसिंग को बढ़ावा देकर उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करके इससे रोजगार के अवसरों को उत्पन्न करना है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य भारत को नौकरी मांगने वालों के देश के स्थान पर रोजगार के अवसर उत्पन्न करने वाला देश बनाना है।
-प्रेमबाबू शर्मा


Post a Comment Blogger Disqus

 
Top