0


मुंबई12 July 2016: डॉ जाकिर नाइक ने सोमवार को सऊदी अरब से स्‍काइपी के जरिये प्रेस कांफ्रेंस की योजना को स्‍थगित कर दिया है। उसकी जगह जारी किए गए लिखित बयान में उन्‍होंने कहा, 'मैं आतंकवाद या हिंसा का किसी भी रूप में का समर्थन नहीं करता। मैंने कभी भी किसी आतंकवादी संगठन का समर्थन नहीं किया।' उन्‍होंने साथ ही यह भी कहा कि मेरे स्‍पष्‍टीकरण के लिए अभी तक किसी भी भारतीय आधिकारिक सरकारी एजेंसी ने मुझसे संपर्क नहीं किया है। गौरतलब है कि भारत, बांग्‍लादेश के इस दावे की जांच कर रहा है कि हालिया ढाका आतंकी हमले के सात आतंकियों में से कुछ नाइक से प्रेरित थे। उस हमले में 20 बंधकों की मौत हो गई थी। इस बीच केन्‍या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉ नाइक का जिक्र तो नहीं किया लेकिन चेतावनी देते हुए कहा, ''घृणा और हिंसा का  प्रचार करने वाले हमारे समाज के लिए खतरा उत्‍पन्‍न कर रहे हैं।'' नैरोबी विश्वविद्यालय में छात्रों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने घृणा और आतंक मुक्त विश्व की वकालत की और कहा कि आर्थिक विकास के लाभ का फायदा उठाने के लिए लोगों और समाज की सुरक्षा जरूरी है। किसी का नाम लिए बिना पीएम मोदी ने कहा, 'घृणा और हिंसा की बात करने वाले हमारे समाज के तानेबाने के समक्ष खतरा उत्पन्न कर रहे हैं।' कट्टरपंथ का मुकाबला करने की जरूरत को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा, 'कट्टरपंथी विचारधारा का मुकाबला करने के लिए युवा एक जवाबी अवधारणा तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।' उल्‍लेखनीय है कि बांग्‍लादेश ने नाइक के पीस टीवी पर पाबंदी लगा दी है। दुबई से प्रसारित होने वाला इस चैनल पर भारत में वर्षों से पाबंदी लगी हुई है लेकिन कई केबल ऑपरेटर इसे गैरकानूनी तरीके से दिखाते हैं। अब ऐसे चैनलों को कड़ी सजा की चेतावनी दी गई है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top