0
नई दिल्ली 14July 2016:  काले धन पर लगाम के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) ने अहम सुझाव दिए हैं। इन सुझावों में तीन लाख रुपए से ज्यादा के सभी कैश लेनदेन को पूरी तरहप्रतिबंधित करना शामिल है। इस तरह के लेनदेन को अवैध और संज्ञेय बनाने के लिए अलग क़ानून का सुझाव भी दिया गया है। एक और अहम सिफारिश में एसआईटी ने कैश रखने की अधिकतम सीमा 15 लाख तय करने के लिए कहा है। एसआईटी ने उच्चतम न्यायालय में सौंपी अपनी पांचवीं रिपोर्ट में कहा है कि बड़ी मात्रा में अघोषित संपत्ति नकद में रखी और ली-दी जाती है। एसआईटी ने कहा है कि लेनदेन की तीन लाख रुपए की सीमा संबंधी प्रावधान तभी सफल हो सकता है जब नगदी रखने की सीमा तय हो। इसलिए, उसने नगदी रखने की सीमा 15 लाख रुपए तय करने की सिफारिश की है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top