0
http://www.journalismdiversityfund.com/wp-content/uploads/2013/05/Woman-with-microphone.jpg
नयी दिल्ली -- महिला और बाल विकास मंत्रालय 7 जून  को नई दिल्‍ली के विज्ञान भवन में प्रथम ‘अखिल भारतीय महिला पत्रकार कार्यशाला’ का आयोजन करेगा। इस कार्यशाला का आयोजन सूचना और प्रसारण मंत्रालय के पत्र सूचना कार्यालय के सहयोग से किया जा रहा है। 

इस सम्‍मेलन के माध्‍यम से देश के सभी क्षेत्रों से 250 पत्रकारों को एक साथ एक मंच पर लाया जाएगा। ये महिला पत्रकार देशभर के छोटे और क्षेत्रीय मीडिया संगठनों सहित प्रिंट, इलैक्‍ट्रॉनिक और ऑनलाइन मीडिया का प्रतिनिधित्‍व करती हैं।

ये सम्‍मेलन समाजिक क्षेत्र में रिपोटिंग करने वाली महिला पत्रकारों की एक अनूठी सभा होगी, जिसमें महिला और बच्‍चों से संबंधित मुद्दों व्‍यापक रूप से विचार-विमर्श किया जाएगा। महिला और बाल विकास मंत्रालय इस दौरान पिछले दो वर्षों की उपलब्धियों का प्रदर्शन भी करेगा और खासतौर पर हाल ही में जारी महिलाओं के लिए राष्‍ट्रीय नीति के मसौदे, ड्राफ्ट तस्‍करी विरोधी विधेयक, जेजे अधिनियम के अंतर्गत ड्राफ्ट विनियमन पर महिलाओं और बच्‍चों से संबंधित बहुत से मुद्दों पर उनकी प्रतिक्रिया भी जानेगा। मंत्रालय महिलाओं और बच्‍चों से संबंधित नये विचारों/ क्षेत्रों को लेकर भी आशान्वित है, जिन पर आने वाले महीनों में ध्‍यान दिया जा सकता है।

केंद्रीय वाणिज्‍य और उद्योग राज्‍य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण प्रतिभागियों को संबोधित करेंगी।

30 राज्‍यों/ केंद्र शासित प्रदेशों से पत्रकारों ने अपनी भागीदारी की पहले ही पुष्टि कर दी है और आने वाले दो दिनों में और अधिक प्रतिभागियों के आने की उम्‍मीद है। इस कार्यशाला में भाग लेने वाली पत्रकार देश के कई क्षेत्रीय प्रकाशनों और क्षेत्रीय चैनलों का प्रतिनिधित्‍व करती हैं।

महिला और बाल विकास मंत्रालय इस अवसर पर अपनी दो व्‍यापक पहलों- बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और बाल हेल्‍पलाइन-चाइल्‍डलाइन का भी प्रदर्शन करेगा।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top