0
नयी दिल्ली -- केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री  स्मृति ईरानी ने गूगल इंडिया की कोड टू लर्न स्पर्धा के विजेताओं को सम्मानित करते हुए सुझाव दिया कि गूगल इंडिया को अगले वर्ष से शुरू होने वाले चरण में स्पर्धा में भाग लेने के लिए सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों की पहचान करनी चाहिए। उन्होंने आशा व्यक्ति की कि अगले चरण में प्रतियोगिता के विजेताओं में आधी लड़कियां होंगी। 
 
      केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय आविष्कार अभियान के अंतर्गत यह कार्यक्रम चलाया गया और यह मानव संसाधन विकास मंत्रालय का अग्रणी कार्यक्रम है। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से मेधावी विद्यार्थियों के साथ सीधे रूप से जुड़ने में मदद मिलती है और यह दिखता है कि बच्चे अपने समुदाय के सदस्यों की चिंताओं के अनुरूप है। 

      केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि इससे भविष्य में यह जानने की आशा बंधती है कि 15 वर्ष की आयु का एक विजेता ने स्टार्ट अप शुरू किया और सफल रहा। उन्होंने कहा कि हमारे युवा समुदाय और देश दोनों को अपना सकते हैं। 

      उन्होंने बच्चों तथा उनके माता-पिता को शानदार एप्स लाने तथा पाठ्य पुस्तकों से अलग परियोजनाएं पेश करने और कौशल दिखाने के लिए बधाई दी।

      केन्द्रीय मंत्री ने कोड टू लर्न के 2016 संस्करण को लांच किया। आज से पाचवीं से दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों के अभिभावक विद्यार्थियों की ओर से कंटेस्ट वेब साइट पर पंजीकरण करा सकते है। विद्यार्थी अपनी परियोजना स्क्रैच या एप इंवेन्टर में बना सकते है और कंटेस्ट साइट पर प्रस्तुत कर सकते है। प्रोजेक्ट 20 जून 2016 से प्रस्तुत किया जा सकेगा। 31 जुलाई 2016 प्रोजेक्ट पेश करने की अंतिम तिथि है। 

      पंजीकरण के लिए कंटेस्ट वेब साइट पर जाएं। कंटेस्ट साइट है g.co/code2learn.

विजेताओं की सूचीः

कक्षा 5 और 6

नीरव अयप्पा
कक्षा 5
एक्सल पब्लिक स्कूल
मैसूर
आदि कूचलोस
कक्षा 5
इंवेंचर एकेडमी
बैंगलुरु
श्रीकृष्ण मधुसूधनन
कक्षा 5
बीवीएम ग्लोबल
चेन्नई

कक्षा 7 और 8

देव पारिख
कक्षा 7
एपीजे स्कूल, पीतमपुरा
दिल्ली
अर्नव सतीश सिंधूर
कक्षा 7
बैंगलोर इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल
बैंगलुरु
बिट्ठल माहेश्वरी
कक्षा 7
गगन पब्लिक स्कूल
अलीगढ़

कक्षा 9 और 10

श्याम
कक्षा 9
सेंट माइकल एकेडमी हायर सेकेंडरी स्कूल
चेन्नई
अर्जुन एस
कक्षा 10
वेलाम्मल विद्याश्रम, सुरापेट
चेन्नई
अन्नय सचदेव
कक्षा 10
हेरीटेज स्कूल
गुड़गांव

स्पर्धा में देशभर से 100 से अधिक प्रविष्टियां आई। इसमें 50 से अधिक शहरों के विद्यार्थी शामिल हुए।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top