0
http://s3.india.com/wp-content/uploads/2014/08/india-myanmar-flag.jpgनयी दिल्ली --  डाव आंग सान सू की के नेतृत्‍व में नवंबर 2015 में म्यांमार में हुए चुनावों में नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी को प्रचंड बहुमत प्राप्‍त हुआ और म्यांमार में नई डेमोक्रेटिक सरकार की स्‍थापना हुई है। 

म्‍यांमार में सत्‍ता परिवर्तन के बाद वाणिज्य और उद्योग मंत्री  निर्मला सीतारमण म्यांमार की यात्रा करने वाली भारत की पहली मंत्री होंगी। उनके नेतृत्‍व में उच्च स्तरीय सीईओ प्रतिनिधिमंडल 18-20 मई, 2016 तक म्यांमार की यात्रा पर जाएगा।
अपनी एक्‍ट ईस्‍ट नीति के एक हिस्‍से के रूप में भारत द्वारा यांगून में 18-20 मई 2016 एक भारतीय म्यांमार बिजनेस सम्‍मेलन का आयोजन किया जा रहा है। भारत के व्‍यापार जगत के जाने-माने दिग्‍गजों का एक 25 सदस्यीय व्यापार प्रतिनिधिमंडल इस सम्मेलन में भाग ले रहा है। 

इस प्रतिनिधिमंडल में डॉ नौशाद फोर्ब्स (सीआईआई के अध्‍यक्ष), राकेश मित्तल (भारती एंटरप्राइजेज), शोभना कमिनेनी (अपोलो हॉस्पिटल्स),अरुंधति भट्टाचार्य (भारतीय स्टेट बैंक), डॉ राजीव आई मोदी (कैडिला फार्मा) और  मधु कन्‍नान (टाटा संस) जैसी हस्‍तियां शामिल हैं।

 भारत के इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्‍व केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार)  निर्मला सीतारमण करेंगी। इस सम्‍मेलन में म्‍यांमार के अनेक मंत्रियों सहित व्‍यापार जगत के शीर्ष व्‍यक्ति भाग लेंगे।

दो दिनों में कृषि, विनिर्माण, रोजगार, सूचना प्रौद्योगिकी, स्‍वास्‍थ्‍य, शिक्षा, कौशल विकास, विद्युत और नवीकरणीय ऊर्जा, (वायु, समुद्र, जमीन) के जुड़ाव, पर्यटन और आतिथ्‍य, सेज, औद्योगिक क्षेत्र और वित्‍त सहित विभिन्‍न क्षेत्रों पर अच्‍छे सत्र आयोजित होने का अनुमान है।

म्‍यांमार के विकास के लिए भागीदारियां जुटाना शीर्षक पर सरकार-व्‍यापार की गोलमेज सभा का आयोजन इस सम्‍मेलन की विशेषता है। इस गोलमेज सभा में सरकार और व्‍यापार दोनों पक्षों की प्रमुख हस्तियों के भाग लेने की उम्‍मीद है।

निर्मला सीतारमण का म्‍यांमार के निर्माण मंत्री यू विन खैंग, वाणिज्‍य मंत्री डॉ. थान माइंथ और उद्योग मंत्री यू खिन मौंग चो सहित नई म्यांमार सरकार के अनेक मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय वार्ता करने का भी कार्यक्रम है।

म्यांमार में सत्‍ता परिवर्तन के बाद भारत के किसी मंत्री की यह पहली यात्रा है। इस यात्रा से भारत म्‍यांमार को आर्थिक और सामाजिक प्रगति के नये मार्ग पर उसका भागीदार बनने की अपनी प्रतिबद्धता का एक मजबूत संकेत देना चाहता है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top