0
नई दिल्ली -- भारत में अपनी तरह के प्रथम ऑटो श्रेडिंग (कतरन) प्‍लांट की स्थापना के लिए एक संयुक्त उद्यम कंपनी स्थापित करने के लिए महिंद्रा इंटरट्रेड लिमिटेड और इस्‍पात मंत्रालय के अधीनस्‍थ सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम (पीएसयू) एमएसटीसी लिमिटेड के बीच एक सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए।

इस्पात एवं खान मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने इस्पात सचिव श्रीमती अरुणा सुंदरराजन की उपस्थिति में संबंधि‍त कार्यक्रम की अध्यक्षता की। श्री तोमर ने अपनी टिप्पणी में कहा कि यह संयुक्त उद्यम सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान में अहम योगदान देगा। 

उन्होंने इस तथ्य की सराहना की कि यह उद्यम अपशिष्ट का उपयोग करके ‘स्वच्छ भारत’ को अपनी ओर से आवश्‍यक योगदान देगा और इसके साथ ही स्क्रैप के आयात में कमी आएगी, जिसके परिणामस्वरूप विदेशी मुद्रा की बचत होगी। उन्‍होंने कहा कि इस तरह की पहल एक मजबूत एवं बेहतर भारत के लिहाज से समय की मांग हैं और इससे इस्पात उद्योग के विकास में भी मदद मिलेगी।

महिंद्रा एंड महिंद्रा के समूह कार्यकारी बोर्ड के सदस्‍य  झूबेन भिवांडीवाला, महिंद्रा इंटरट्रेड के प्रबंध निदेशक  सुमित इस्‍सार, एमएसटीसी लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक  शैलेन्‍द्र कृष्‍ण त्रिपाठी और अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे। इस्‍पात एवं खान मंत्री ने संबंधित योजना की सराहना की और यह उम्‍मीद जताई कि इसे कम से कम समय में व्यवहार्य बना दिया जाएगा।

भारत में श्रेडिंग प्‍लांट की स्‍थापना से कतरन वाले स्‍क्रैप के आयात पर निर्भरता घट जाएगी, जिससे बेशकीमती विदेशी मुद्रा की बचत होगी और यह द्वितीयक इस्‍पात क्षेत्र के लिए भी मददगार साबित होगा।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top