0
नई दिल्ली : डांस अकादमी की स्थापना के लिए गैरकानूनी रूप से मामूली कीमत पर जमीन हासिल करने के आरोपों को दरकिनार करते हुए अभिनेत्री-सांसद हेमामालिनी ने कहा कि उन्हें संस्थान की स्थापना करने से कोई नहीं रोक सकता। 

http://prabalpravakta.com/wp/wp-content/uploads/2014/08/1229.jpgबंबई उच्च न्यायालय में पिछले महीने दायर की गयी एक जनहित याचिका में शहर के पुलिस आयुक्त को गैराकनूनी तरीके से जमीन के आवंटन के आरोपों को लेकर अभिनेत्री और महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री एकनाथ खडसे के खिलाफ धोखाधड़ी एवं जालसाजी का मामला दायर करने का निर्देश देने की मांग की गयी थी। 

हेमा मालिनी ने कहा कि उन्होंने अपनी खुद की नृत्य अकादमी की स्थापना के लिए 20 साल इंतजार किया और ‘राजनीति’ को अपनी योजना बर्बाद करने नहीं देंगी। अकादमी में शास्त्रीय नृत्य शैलियां सिखायी जाएंगी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसके लिए 20 साल से इंतजार करती रही और जब मुझे यह मिलने वाला था इतना हंगामा खड़ा किया गया कि मैं डर गयी। लोगों ने कहा, ‘आप इसे छोड़ दें, आप जमीन के पीछे क्यों पड़ी हैं? मैंने कहा कि मैं वह चीज क्यों छोड़ दूं जिसका मैं इतने वर्षों से इंतजार करती रही।’’

अभिनेत्री-सांसद ने कहा, ‘‘मैं अपना नृत्य, अपना संगीत सिखाना चाहती हूं, मैं एक संस्थान खोलना चाहती हूं और बच्चों को सिखाना चाहती हूं। वे मुझे कैसे रोक सकते हैं? वे गंदी राजनीति क्यों कर रहे हैं, मेरे विचार एवं सृजन को क्यों बर्बाद कर रहे हैं ?’’

 उन्होंने साथ ही अभिनेत्री आशा पारिख से जुडे पद्म श्री सम्मान  विवाद की तरफ इशारा करते हुए कहा कि कलाकारों को उचित सम्मान दिया जाना चाहिए, उन्हें इस तरह के पुरस्कार देना काफी नहीं है। गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दावा किया था कि आशा पारिख ने पुरस्कार के लिए लॉबीइंग की थी।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top