0
http://www.khaskhabar.com/newsimage/small400/sri-sri-ravi-shankar-0.jpg
नई दिल्ली : श्री श्री रविशंकर ने  कहा कि विश्व सांस्कृतिक महोत्सव के खिलाफ राजनीति की जा रही है और वह जेल चले जाएंगे लेकिन जुर्माना नहीं देंगे। उन्होंने कहा, 3 लोग आधे घंटे के लिए आए और रिपोर्ट बना दी। उनकी रिपोर्ट नहीं मानी जाएगी। वे बताएं कि क्या नुकसान हुआ है। यहां नियमों का पालन करने वालों पर भी फाइन लग सकता है। हमारा मकसद इस कार्यक्रम के माध्यम से यमुना के बारे में जागरुकता फैलाना हैं। 

  नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) ने यमुना किनारे आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन के कार्यक्रम पर 5 करोड़ का जुर्माना लगाया है। आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन 11 मार्च से लेकर 13 मार्च तक यमुना किनारे विश्व सांस्कृतिक महोत्सव का आयोजन करा रहा है। तीन दिनों के इस कार्यक्रम में 35 लाख लोगों के आने की उम्मीद है। 


वहीं, दूसरी तरफ, राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) ने आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन से आज कहा था कि यदि आयोजक आज शाम चार बजे तक पांच करोड़ रुपए का जुर्माना जमा नहीं करा पाते है तो यमुना किनारे ‘विश्व सांस्कृतिक महोत्सव’ के आयोजन के लिए दी गई अनुमति को रद्द किया जा सकता है। 


एनजीटी की एक खंडपीठ ने कल इस तीन दिवसीय विवादास्पद महोत्सव को सशर्त मंजूरी दी थी। 
एनजीटी ने दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) से पूछा था कि क्या फाउंडेशन ने जुर्माना जमा करा दिया है, इस पर एनजीटी को बताया गया कि अभी जुर्माना जमा नहीं कराया गया है। डीडीए के वकील को फिर कहा गया है कि शाम चार बजे वह यह पता करें कि फाउंडेशन ने आदेश का पालन किया है या नहीं। 


एनजीटी ने वकील से स्पष्ट कहा कि यदि तय समय में जुर्माना जमा नहीं किया गया तो महोत्सव के आयोजन की अनुमति को वापस लिया जा सकता है, जबकि श्री श्री का कहना है कि वह एनजीटी के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देंगे। 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top