0

​- प्रेमबाबू शर्मा​

आज के दौर में कॉमेडी फिल्मों की कामयाबी को संदेह की नजरों से नहीं देखा जाता। यही वजह है कि सालभर में दर्जनों काॅमेडी फिल्में हमारे बीच आती हैं। 11 मार्च को रिलीज होने जा रही ‘मुरारी: द मैड जेंटलमैन’ भी एक कॉमेडी फिल्म है, लेकिन इसमें और भी बहुम कुछ है। इस कॉमेडी फिल्म में इमोशन का तड़का है, तो बोल्डनेस की छौंक भी है। साथ ही, समाज के लिए खास संदेश भी।

 डायरेक्टर सुजाद इकबाल खान की असरानी, किरण शरद, संजय सिंह, सुरेंद्र राजन, नतालिया इलिना स्टारर अपनी इसी फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में निर्माताद्वय किशोर एवं सुनील पटेल कलाकारों असरानी, नतालिया इलिना के साथ पिछले दिनों दिल्ली के दिल कनाॅट प्लेस स्थित ‘एफ-बार’ में मौजूद थे। बातों का सिलसिला शुरू हुआ, तो किशोर एवं सुनील पटेल ने बताया कि ‘मुरारी: द मैड जेंटलमैन’ महज एक काॅमेडी फिल्म नहीं है, बल्कि इसमें समाज के लिए भी बहुत कुछ है। 
 
असरानी के साथ फिल्म बनाने के अनुभवों के बारे में निर्माताद्वय किशोर एवं सुनील पटेल बताते हैं, ‘असरानी जैसे अनुभवी एवं सिद्धहस्त एक्टर के साथ काम करने में कोई मुश्किल नहीं आई, बल्कि यूं कहिए कि उनके साथ काम करना बहुत ही सरल था। हालांकि, असरानी को एक दिन में दो या तीन सीन करने की ही आदत है, लेकिन ‘मुरारी’ के लिए उन्होंने अपना यह रिकॉर्ड तोड़ दिया। यह न केवल हमारे लिए, बल्कि असरानी जी के लिए भी अलग ही अनुभव था। वह लगातार सेट पर रहते थे और दूसरे कलाकारों की मदद भी करते थे। 


वास्तव में काम के प्रति उनकी शिद्दत कमाल की है। वह अपने डायलॉग्स की स्क्रिप्ट में खुद सुधार करते और उसे और भी रोचक बना देते थे। इस उम्र में भी उनमें गजब की चुस्ती-फुर्ती है। निर्माताद्वय कहते हैं, ‘जब हमने असरानी को फिल्म की कहानी सुनाई, तो उन्हें यह बहुत पसंद आई। ऐसा पहली बार है कि जब असरानी कोई इमोशनल कैरेक्टर कर रहे हैं। उनका कैरेक्टर थोड़ा मनोरंजक भी है, लेकिन ज्यादातर इमोशनल ही है। फिल्म में असरानी ने गांव के मुखिया की भूमिका निभाई है।’
 
पिछले पचास दशकों से अपने हास्य व ह्यूमरस किरदारों से लोगों को गुदगुदाने वाले प्रख्यात अभिनेता असरानी अपने अब तक के करियर में शायद पहली बार फिल्म ‘मुरारी: द मैड जेंटलमैन’ में एक अति भावुक किरदार में नजर आने वाले हैं। असरानी कहते हैं, ‘लोगों को अपने अभिनय से अब तक हंसाता ही रहा हूं। लेकिन, इस फिल्म के जरिये पहली बार अपने अभिनय से लोगों को रुलाऊंगा। इस फिल्म में काम करने के बाद पता चला कि इसकी कहानी कितनी संवेदनशील है। इस फिल्म में अपने किरार को जीवंत बनाने के दौरान मैं खुद रोया हूं और दावा करता हूं कि फिल्म देखते हुए दर्शक भी रोएंगे। इससे अधिक अपनी इस फिल्म एवं इसमें अपने किरदार के बारे में कुछ नहीं कहूंगा।

 
‘यह एक बहुत ही स्पेशल मूवी है, यही वजह है कि मैं इस फिल्म के लिए राजी हो गई। एक्चुअली, एक रियल लाइफ स्टोरी से इंस्पायर होकर इसकी कहानी लिखी गई है। यह एक सीधे-सादे लड़के मुरारी की कहानी है। सब गांव वाले मुरारी को पागल कहते हैं। इसलिए इस मूवी का टाइटल है ‘मुरारी-द मैड जेंटलमैन’। लेकिन, एक तरफ यह बेहद इमोशनल मूवी है, तो दूसरी ओर यह एक सटायर भी है। फिल्म एक मैसेज भी देती है। 

 
फिल्म में असरानी के कैरेक्टर को मुरारी (संजय सिंह) से बहुत लगाव है, क्योंकि वह मुरारी के पिता के बहुत करीब रहा। मुरारी का किरदार संजय सिंह निभा रहे हैं। वह कहते हैं, ‘‘मुरारी: द मैड जेंटलमैन’ वैसे तो एक कॉमेडी फिल्म है, लेकिन कॉमेडी के माध्यम से इस फिल्म में समाज के विभिन्न समस्याओं को उठाया गया है। जहां तक बात असरानी के साथ काम करने के अनुभव का है, तो एक न्यूकमर को अगर असरानी जैसे दिग्गज के साथ केवल स्क्रीन शेयर करने का मौका मिल जाए, तो वह धन्य हो जाता है। मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिला, यह मेरा सौभाग्य है। उनके साथ काम करके वाकई बहुत कुछ सीखा और अभिनय का भरपूर आनंद उठाया।’

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top