0
- प्रेमबाबू शर्मा

ज़ी क्लासिक अब अपनी ताजा पेशकश डेटॉॅल प्रेजेन्ट्स ‘द गोल्डन ईयर्स 1950-1975, अ म्यूजिकल जर्नी विथ जावेद अख्तर‘ को-पावर्ड बाय स्टेट बैंक ऑफ इंडिया लेकर आया है। शो ज़ी क्लासिक पर 8 मार्च हर रविवार रात 8 बजे से दर्शकांें के बीच होगा।  यह शो 26 साप्ताहिक एपिसोड की सीरीज होगी, जो एक विशेष फाइनल एपिसोड के साथ समाप्त होगी। इस फाइनल एपिसोड को कोई और नहीं बल्कि स्वयं जावेद अख्तर डिजाइन करेंगे । हर एपिसोड दर्शकों को उस विशेष साल के संगीत में ले जाएगा, जो 1950 से शुरू होकर क्रमवार आगे बढ़ेगा और उस दौर की खास झलक भी दिखाएगा।

शो में फिल्म निर्माण के शुरुआती दशकों में जब उन्नत संगीत उपकरणों और रिकॉर्डिंग तकनीक का अभाव था, तब कुछ प्रतिभाशाली कलाकारों, गीतकारों और संगीतकारों ने अपनी मेहनत से कुछ मधुर धुनें तैयार कीं और हमें ऐसे गीत दिए जो आज भारतीय फिल्म संगीत की धरोहर बन गए हैं। ज़ी क्लासिक का ‘द गोल्डन ईयर्स‘ उस दौर के संगीत में वापस लौटने और इसकी खूबसूरती का जश्न मनाने का एक अवसर है। ज़ी एंटरटेनमेन्ट एंटरप्राइजेस के चीफ बिजनेस ऑफिसर श्री सुनील बुच कहते हैं,  ‘‘ज़ी क्लासिक में हमें स्वर्णिम दौर के सर्वश्रेष्ठ पल प्रस्तुत करते हुए बेहद गर्व हो रहा है। ‘वो ज़माना करे दीवाना‘ के चैनल के वादे के साथ ‘द गोल्डन ईयर्स 1950-1975, अ म्यूजिकल जर्नी विथ जावेद अख्तर‘ उस दौर के संगीत का जादू जगाएगा। इस कार्यक्रम के लिए जावेद साहब से बेहतर प्रस्तोता कोई और नहीं हो सकता है।
 
जावेद अख्तर ने प्रेमबाबू शर्मा को बताया ‘‘यह ज़ी क्लासिक के साथ मेरा चैथा कार्यक्रम है। हमने मिलकर ऐसी सामग्री तैयार की, जो फिल्म प्रेमियों के दिलों में अनमोल यादें बनकर रहेंगी। 1950 से 1975 का समय, वो दौर था जब सी. रामचंद्रन, राजेन्द्र कृष्ण, तलत मेहमूद, नौशाद, शहीदा बेगम, एस.डी. बर्मन, लता मंगेशकर, किशोर कुमार, गुलज़ार और आर. डी. बर्मन जैसे कलाकारों ने हिन्दी फिल्म संगीत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया। वो साल इंडस्ट्री के लिए वाकई यादगार थे जब हमें ऐसा संगीत मिला जो आज भी बेमिसाल है। मैं सिनेमा में इन हस्तियों के योगदान का जश्न मनाते हुए बेहद खुशी महसूस कर रहा हूं। 
 
ज़ी के हिन्दी मूवी क्लस्टर के बिजनेस हेड श्री रुचिर तिवारी ने कहा, जावेदजी के साथ इस चैनल का रिश्ता अनमोल है और इसने ज़ी क्लासिक की सफलता में खास योगदान दिया है। इस चैनल की ताजा पेशकश ‘द गोल्डन ईयर्स‘ में 26 साप्ताहिक एपिसोड होंगे, जिसमें एक विशेष समापन एपिसोड होगा। इसे स्वयं जावेद साहब तैयार करेंगे। हर एपिसोड दर्शकों को एक विशेष साल के संगीत के सफर पर ले जाएगा, जो 1950 से शुरू होगा। इसमें क्लासिक रेडियो ट्रेन एक्टिविटी भी शामिल होगी जिसमें मुुंबई की लोकल ट्रेनों को ज़ी क्लासिक रेडियो ट्रेन का नाम दिया जाएगा। इन ट्रेनों में पुराने दौर के क्लासिक गीत बजेंगे, साथ ही संगीत के इन महारथियों से जुड़े कुछ अनसुने किस्से भी सुनाए जाएंगे जो इन ट्रेनों में बनाए गए साउंड सिस्टम के जरिये चलेंगे।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top