0
http://www.globalgujaratnews.in/uploads/news/07_2013/1373540777_Nepal-Army.jpg
नयी दिल्ली -- बटालियन स्‍तर के अभ्‍यास का संचालन मध्‍य कमान के पंचशूल ब्रिगेड द्वारा किया जा रहा है। भारत और नेपाल की सेना का संयुक्‍त 14 दिवसीय सैन्‍य अभ्‍यास सूर्यकिरण -9 की शुरुआत 8 फरवरी 2016 को पिथौरागढ़ में हुई। 

यह सैन्‍य अभ्‍यास 21 फरवरी तक चलेगा। इस संयुक्‍त सलामी परेड का आयोजन किया गया। इस अभ्‍यास में नेपाल की सेना की ओर से श्रेष्‍ठ बटालियन श्री रुद्रभोज बटालियन के अधिकारी और जवान भाग ले रहे हैं जबकि भारतीय सेना की ओर से इंफेंट्री बटालियन भाग ले रहा है। इस संयुक्‍त

 9वें सैन्‍य अभ्‍यास के दौरान दोनों सेनाएं एक दूसरे के साथ युद्ध संबंधी अनुभव साझा करेगी और पवर्तीय क्षेत्रों में लड़े जाने वाले जंगल युद्ध और आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन के संबंध में एक दूसरे के साथ तालमेल बढ़ाएंगी। हाल के वर्षों में दोनों देशों में आपदा प्रबंधन के दौरान सैन्‍य बलों की भूमिका अहम हुई है। इस अभ्‍यास में आपदा के समय में मानवीय सहायता और बचाव कार्य सहित चिकित्‍सा और हवाई सहायता पहुंचाने पर विशेष जोर दिया जाएगा।

मध्‍य कमान मुख्‍यालय के ब्रिगेडियर संजय शर्मा सैन्‍य अभ्‍यास के शुभारंभ के अवसर पर उपस्थित रहे और उन्‍होंने दोनों देशों के सैनिकों से बातचीत की। अपने शुरुआती भाष्‍ण में ब्रिगेडियर शर्मा ने कहा कि दोनों देशों की सेनाओं को एक दूसरे से बहुत कुछ सीखने की आवश्‍यकता है। इसमें विशेष तौर पर आतंकवाद से जुड़ी चुनौतीयां और हाल के वर्षों में आई प्राकृतिक आपदाओं के दौरान आपदा प्रबंधन महत्‍वपूर्ण हैं। अभ्‍यास के दौरान भारतीय सेना के वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ-साथ नेपाल की सेना के वरिष्‍ठ अधिकारी भी इस सैन्‍य अभ्‍यास का निरीक्षण करेंगे।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top