0
दिल्ली : प्रसिद्ध गीतकार-कवि जावेद अख्तर  ने कहा कि फिल्म निर्माण अब और पुरूषों के प्रभुत्व का क्षेत्र नहीं रहा क्योंकि बहुत सारी महिलाएं निर्देशन एवं निर्माण के क्षेत्र में पहचान बना रही हैं।  
 
http://images.bollywoodhungama.com/img/feature/15/jan/poet.jpg71 साल के लेखक ने सिनेमा के विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं की सफलता और अपने पुरूष समकक्षों को पीछे छोडऩे को सकारात्मक मानते हैं।  उन्होंने यहां उर्दू महोत्सव ‘जश्न ए...’ में कहा, ‘‘पूर्व में महिलाएं पाश्र्वगायन, अभिनय और केश साज सज्जा के क्षेत्र तक सीमित थे लेकिन आज सिनेमा से जुड़ा एेसा कोई पेशा नहीं है जहां महिलाएं ना हों।’’ 

अख़्तर  ने कहा, ‘‘किसी ने नहीं सोचा था कि महिलाएं फिल्में निर्देशित करेंगी। आज महिलाएं बहुत सारी सफल फिल्मों का निर्र्देशन कर रही हैं। अब किसी को इस पर हैरत नहीं होती। फिल्म निर्माण अब पुरूषों की जागीर नहीं है, इसका जिमा महिलाएं भी संभाल रही हैं। बहुत सारी शानदार महिला पटकथा लेखक हैं। मैं उनका सम्मान करता हूं।’’ 

 उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए अपना प्रभुत्व दिखाने का एकमात्र क्षेत्र जो बचा हुआ है वह संगीत रचना का है लेकिन उन्हें उमीद है कि वहां भी स्थिति ‘जल्द ही बदलेगी।’  ‘जिंदगी, आशिकी और शायरी’ सत्र के दौरान अपने संबोधन में गीतकार ने कहा कि भारत में पुरूषों की तुलना में महिला लेखकों की संख्या कम है क्योंकि उन्हें सफलता के पर्याप्त अवसर नहीं मिलते।  उन्होंने कहा कि यह सच्चाई है और हमें अब भी लंबा सफर तय करना है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top